इंदौरः एमवाय को आदर्श अस्पताल के रूप में किया जाएगा विकसितः सिलावट

भोपाल, 22 जुलाई। इंदौर के एमवाय अस्पताल को आदर्श अस्पताल के रूप में विकसित किया जायेगा। इसके लिये जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट की पहल पर अस्पताल के उन्नयन एवं अत्याधुनिक चिकित्सा से सुविधाओं से युक्त करने के लिये लगभग 250 करोड़ रुपये का प्रस्ताव तैयार किया गया।

मंत्री सिलावट ने गुरुवार को हुई एक बैठक में इस प्रस्ताव के संबंध में संबंधित अधिकारियों से चर्चा कर इसे और अधिक बेहतर बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा की अगले अगस्त माह में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग की विशेष उपस्थिति में जिले के जन प्रतिनिधियों तथा वरिष्ठ अधिकारियों से विचार विमर्श कर प्रस्ताव को अंतिम रूप दिया जायेगा और आगामी कार्रवाई की जायेगी।

एमजीएम मेडिकल कॉलेज में हुई बैठक में संभागायुक्त डॉ. पवन कुमार शर्मा, कलेक्टर मनीष सिंह, एमजीएम मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. संजय दीक्षित, एमवाय अस्पताल के अधीक्षक डॉ. पीएस ठाकुर सहित मेडिकल कॉलेज से जुड़े विभिन्न अस्पतालों के अधीक्षक मौजूद थे। बैठक में बताया गया कि अस्पताल के उन्नयन के लिये विस्तृत प्रस्ताव तैयार हो रहा है। इसके लिये विभिन्न अधिकारियों को मदवार नोडल अधिकारी बनाकर दायित्व सौंपे गये हैं।

मरीजों के परिजनों के लिये रहने-खाने के लिये बनेगा भवन

एमवाय अस्पताल में प्रतिदिन करीब ड़ेढ हजार मरीज भर्ती रहते हैं जो दूर दराज के क्षेत्रों से आते हैं। मरीजों के परिजनों के रहने के लिये एवं उनके खाने की व्यवस्था का प्रस्ताव तैयार किया गया है। इसके लिये अलग भवन रहेगा। इसमें करीब 300 बेड की व्यवस्था होगी। इसका खर्च लगभग 3 करोड़ रूपये संभावित है।

नयी लिफ्टें लगेंगी

एमवाय अस्पताल की बिल्डिंग करीब 70 साल पुरानी है एवं मरीजों और डॉक्टरों के लिये सिर्फ तीन लिफ्ट ही है अस्पताल में 3 और लिफ्ट लगाने की आवश्यकता है। जिसकी संभावित लागत लगभग 3 करोड़ रहेगी।

डे केयर सेंटर बनेगा

अस्पताल में बहुत से मरीज ऐसे आते हैं जिन्हें भर्ती करने की आवश्यकता नहीं होती है परंतु निगरानी में कुछ घंटे रखना पड़ता है। इसके लिए 200 बेड का एक डे केअर सेंटर बनाये जाने का प्रस्ताव रखा गया है। इस पर लगभग 5 से 8 करोड़ रुपये की राशि खर्च होना संभावित है। अस्पताल में इलेक्ट्रिकल, प्लंबिंग, लॉन्ड्री, किचन आदि के लिये अलग से विभाग बनाना प्रस्तावित किया गया है। अस्पताल में एयर कंडीशनिंग सिस्टम का आधुनिकरण किया जायेगा। इससे अस्पताल के आईसीयू, ऑपेरशन थिएटर एवं वार्डों में मरीजों को ज्यादा सहूलियत मिल सकेगी। जिसकी संभावित लागत लगभग 2 से 3 करोड़ रुपये रहेगी।

400 बेड का ट्रामा सेंटर बनेगा

एमवाय अस्पताल में 400 बेड का अत्याधुनिक ट्रॉमा सेंटर बनाया जाना प्रस्तावित किया गया है। बैठक में बताया गया कि इंदौर की आबादी को देखते हुये ट्रामा सेंटर अत्यंत जरूरी है। वाहनों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है। दुर्घटनाओं के घायलों के उपचार के लिये यह बेहद मददगार होगा। अभी एमवाय अस्पताल में रोज 400 से 500 मरीज ट्रॉमा एवं एमएलसी के आते हैं।

रोज करीब 20 से 25 ऑपरेशन ट्रॉमा से संबंधित किये जाते हैं। मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कैजुअल्टी मेडिकल ऑफीसर के और पद निर्मित किये जाने के निर्देश भी मंत्री सिलावट ने दिये। इस सेंटर के निर्माण पर करीब 15 से 20 करोड़ रुपये का व्यय संभावित हैं।

कैंसर अस्पताल का नया भवन बनेगा

बैठक में बताया गया कि एमवाय परिसर में स्थित कैंसर अस्पताल का भवन पुराना एवं जर्जर हो गया है। अस्पताल में इलाज के लिये सुविधाएं भी पुरानी है। मंत्री सिलावट ने कहा कि इस अस्पताल के लिये नया भवन बनाया जाये, अस्पताल में अत्याधुनिक मशीने जांच एवं उपचार के लिये लगाई जाये। अस्पताल में रेडियोथेरेपी, किमोथैरेपी एवं कैंसर सर्जरी के संयुक्त इलाज हेतु पर्याप्त वार्ड एवं ऑपरेशन थियेटर की कमी हैं इसलिए कैंसर अस्पताल को नया बनाया जाए।

नये कैंसर अस्पताल के भवन निर्माण की संभावित लागत करीब 40 करोड़ रुपये है। कैंसर अस्पताल में अभी कोबाल्ट पद्धति से मरीजों का इलाज हो रहा है जो कि पुरानी हो गयी है। लीनियर एक्सीलेरेटर, एच. डी. आर ब्रेकीथैरेपी मशीन, रेडियोथैरेपी डेडिकेटेड सीटी मशीन, पेट- सीटी मशीन एवं डोसीमेट्रीक सिस्टम की आवश्यकता है इन मशीनो की अनुमानित लागत 40 करोड़ रुपये है।

सभी ऑपरेशन थिएटर को मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर में बदला जायेगा

एमवाय अस्पताल में अभी 18 ऑपरेशन थिएटर है। प्रथम चरण में 10 ऑपरेशन थिएटर को मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर में बदलने का प्रोजेक्ट है, जिसकी संभावित लागत लगभग 10 करोड़ रुपये रहेगी।

नशा उन्मूलन केन्द्र की स्थापना होगी

बैठक में बताया गया कि मानसिक चिकित्सालय में आधुनिक डी एडिक्शन सेंटर की स्थापना एवं नशा उन्मूलन केन्द्र बनाया जायेगा। इसमें शराब, भांग, गाँजा, अफीम, ब्राउन शुगर, ड्रग्स आदि के पीड़ित लोगों का सम्पूर्ण इलाज तथा पूनर्वास होगा। इसमें 50 बिस्तरों की व्यवस्था रहेगी। जिसकी संभावित लागत लगभग 10 करोड़ रहेगी ।

अस्पताल में नई लैब बनेगी

सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में रोबोटिक सर्जरी बैठक में बताया गया कि सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में रोबोटिक सर्जरी की व्यवस्था की जायेगी। इसके लिये थिएटर का निर्माण हो चुका है। रोबोटिक सर्जरी के एक्विपमेंट दा विन्ची रोबोट आर्म की कीमत करीब 20 से 25 करोड़ रुपये है।

परिसर का होगा सौंदर्यीकरण

बैठक में बताया गया कि एमवाय अस्पताल और मेडिकल कॉलेज के कैंपस के सौदर्यीकरण, सड़कों का चौड़ीकरण, वृक्षारोपण, मल्टी लेवल पार्किंग, ट्रैफिक व्यवस्था आदि के कार्य पर 15 से 20 करोड़ रुपये की योजना बनायी जा रही है।

ये कार्य भी हैं प्रस्तावित

अस्पताल में समय की मांग के अनुसार नये स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम शुरू करने के प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिये गये। चाचा नेहरू अस्पताल का विस्तार भी प्रस्तावित किया गया है। यह 400 बेड के लिये नये वार्ड बनाये जाना है।

इस पर लगभग 10 करोड़ रूपये का खर्च प्रस्तावित है। साथ ही विभिन्न बीमारियों के टीकाकरण के लिये अलग से वयस्क टीकाकरण क्लिनिक बनाये जाने के निर्देश दिये गये। अस्पताल को पेपर लेस बनाने तथा डिजिटलाईजेशन करने का भी प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिये गये है। अस्पताल परिसर में सुरक्षा के लिये बॉउड्रिवाल, कॉलेज के विद्यार्थियों के लिये खेल मैदान, प्रोफेसरों के लिये आवास की व्यवस्था आदि बनाने के लिये भी प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। इस पर लगभग 30 से 40 करोड़ रुपये खर्च होना प्रस्तावित है।

बैठक में बताया गया कि एमआरटीबी अस्पताल को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनाना है। इसकी बेड क्षमता बढ़ाने के साथ नए आधुनिक मॉड्यूलर ऑपरेशन थिएटर बनाया जाना है। बेड संख्या ड़ेढ सौ की जायेगी। नया ऑपरेशन थियेटर बनेगा। इसकी संभावित लागत लगभग 5 से 8 करोड रहेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button