एमपी में आ रहा है गुलाब तूफान ! पढ़िए क्या होगा अगर

Gulab storm is coming in MP! read what if

एमपी में आ रहा है गुलाब तूफान

भोपाल । सारी मुश्किल परिस्थितियों के बादअब प्रकृति ने अपना कहर दिखाना शुरू कर दिया है इसी का नतीजा है कि अब एक बार फिर गुलाब नाम का एक तूफान रविवार को मध्य प्रदेश से टकरा सकता है यह तूफान मध्य प्रदेश के ग्वालियर, इंदौर सहित अधिकांश भागों में अपना असर दिखाएगा मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी में बना गहरा दबाव का क्षेत्र अब एक बार फिर चक्रवाती तूफान में बदल गया है जिसे गुलाब तूफान नाम दिया गया है

रविवार को यह तूफान आंध्र प्रदेश के मछलीपट्टनम में टकराएगा इसके इसके अतिरिक्त सौराष्ट्र में हवा के ऊपरी भाग में बना चक्रवात अरब सागर में जाकर कम दबाव के क्षेत्र में परिवर्तित हो गया है मानसून द्रोणिका इन दोनों शक्तिशाली मौसम प्रणालियों को आपस में जोड़ते हुए इंदौर से गुजार रहे हैं मौसम विज्ञान से जुड़े लोगों का कहना है कि इस मौसम प्रणाली से प्रभाव ग्वालियर चंबल सहित मध्य प्रदेश के अधिकांश विभागों में आने वाले 4 से 5 दिनों तक रहने की संभावना है

ग्वालियर जिले में पिछले कुछ दिनों से निरंतर बादल छाए हुए हैं लेकिन तेज बारिश नहीं हो रही है। बादल आए दिन छुटपुट बारिश कर शांत हो जाते हैं। इसी क्रम में शनिवार को भी सुबह करीब छह बजे के बाद हल्की बारिश हुई, जबकि दिन भर धूप खिली रही। शहर में पिछले 24 घंटे में 17.8 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। मौसम विभाग के अनुसार शहर में सितम्बर अंत तक 725.6 मिलीमीटर औसत बारिश होना चाहिए, जबकि अब तक 683.5 मिलीमीटर बारिश हुई है जो औसत से 42.1 मिलीमीटर कम है।

मौसम विभाग का पूर्वानुमान है कि सितम्बर अंत तक बारिश का आंकड़ा औसत से ऊपर पहुंच जाएगा। स्थानीय मौमस विज्ञान केन्द्र के अनुसार शनिवार को अधिकतम तापमान 32.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो औसत से 1.8 डिग्री सेल्सियस कम है, जबकि न्यूनतम तापमान 25.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो औसत से 2.3 डिग्री सेल्सियस अधिक है। आज सुबह हवा में नमी 90 और शाम को 75 प्रतिशत दर्ज की गई।

इन मौसम प्रणालियों से अंचल में अच्छी बारिश की संभावना: मौसम विभाग के अनुसार वर्तमान में उत्तर-पूर्वी मध्य प्रदेश में हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती तूफान उठा है। पाकिस्तान की ओर से इस तूफान का नामकरण गुलाब के नाम से किया है। अरब सागर में पाकिस्तान के पास एक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। मानसून द्रोणिका भी इन दोनों शक्तिशाली मौसम प्रणालियों के बीच में बनी हुई है। साथ ही यह द्रोणिका इन्दौर से होकर गुजर रही है जिसके चलते वर्तमान में बंगाल की खाड़ी और अरब सागर दोनों स्थानों से नमी आने का सिलसिला बना हुआ है। इस वजह से ग्वालियर-चम्बल सहित पूरे मध्यप्रदेश में आगामी चार-पांच दिन तक रुक-रुककर बारिश होने की उम्मीद है

यह भी पढ़े : रेलवे ने दी बड़ी सौगात, बिलासपुर-कटनी-बिलासपुर के बीच चलेगी मेमू स्पेशल ट्रेन

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button