MP में कांग्रेस का 9 से 15 अगस्त तक बड़ा प्लान, इंदौर से कमलनाथ करेंगे शुरुआत

MP में आजादी की 75वीं वर्षगांठ के मौके पर आजादी का अमृत मनाने की तैयारी चल रही है. बीजेपी अगर देशभर में तिरंगा यात्रा निकालती है तो कांग्रेस 9 अगस्त से 15 अगस्त तक MP में भी तिरंगा यात्रा निकालेगी. इसकी सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। MP में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ इस दौरान अलीराजपुर जिले का दौरा करेंगे। जबकि कांग्रेस के अन्य सभी बड़े नेता भी राज्य के विभिन्न हिस्सों में तिरंगा यात्रा में शामिल होंगे.

वरिष्ठ नेता संभालेंगे मोर्चा

कांग्रेस के सभी वरिष्ठ नेता 9 से 15 अगस्त तक तेरींगा यात्रा का नेतृत्व करेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के अलावा दिग्विजय सिंह, अरुण यादव, डॉ गोबिंद सिंह, कांतिलाल भूरिया और अजय सिंह राहुल को जिम्मेदारी दी गई है. ये सभी नेता विभिन्न जिलों में कांग्रेस की तिरंगा यात्रा में शामिल होंगे. कहा जा रहा है कि कांग्रेस विभिन्न संभागों के माध्यम से पूरे राज्य में खेती की तैयारी कर रही है.

MP में कांग्रेस का 9 से 15 अगस्त तक बड़ा प्लान, इंदौर से कमलनाथ करेंगे शुरुआत
Photo By Google

कमलनाथ करेंगे यात्रा का शुभारंभ 

वहीं कमलनाथ इंदौर में आदिवासी बलिदानी नेता तांत्या भील की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर तिरंगे सम्मान उत्सव का उद्घाटन करेंगे. इस समय सभी कांग्रेस नेता एक साथ आएंगे और एकता का परिचय देंगे। यात्रा इंदौर से शुरू होकर राज्य के विभिन्न हिस्सों में पहुंचेगी।

Photo By Google

अलीराजपुर जाएंगे कमलनाथ 

तिरंगे यात्रा में कांग्रेस की नजर आदिवासी वोट बैंक पर भी है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ तिरंगा यात्रा पर आदिवासी बहुल अलीराजपुर जिले का दौरा करेंगे. क्योंकि विश्व स्वदेशी लोग दिवस भी 9 अगस्त को मनाया जाता है। कमलनाथ अलीराजपुर जिले के दौरान क्रांतिकारी शहीद चंद्रशेखर आजाद के गांव भाबरा का दौरा करेंगे. कांग्रेस राज्य भर में कार्यक्रम भी आयोजित करेगी।

Photo By Google

 इसे भी पढ़े-Satna MP News: पुलिसकर्मियों-किसानों को सौगात, 2 नई नीति को मंजूरी, इस योजना में 2 वर्ष की वृद्धि, विस्तार से पढ़े शिवराज कैबिनेट के फैसले

कांग्रेस का आदिवासी वर्ग पर फोकस 

2018 के विधानसभा चुनाव तक आदिवासियों का झुकाव बीजेपी की तरफ था. लेकिन 2018 के चुनाव में कांग्रेस ने आदिवासियों के लिए आरक्षित 47 में से 30 सीटों पर जीत हासिल की थी, जबकि बीजेपी सिर्फ 16 पर ही जीत पाई थी. इसे राज्य में सत्ता परिवर्तन का एक प्रमुख कारक माना गया और 15 साल बाद राज्य में कांग्रेस की सरकार बनी। लेकिन बीजेपी की नजर इस सेगमेंट पर पिछले कुछ समय से है. ऐसे में अब कांग्रेस ने भी अपने पुराने वोट बैंक से काम करना शुरू कर दिया है.

Article By Sunil

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button