शुक्रवार को होगा शिवराज कैबनेट विस्तार, ये विधायक बनेगे मंत्री BHOPAL NEWS

भोपाल 1 जनवरी । उपचुनाव के बाद से ही लगातार शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चा जोरों पर है वही कोरोनावायरस संक्रमण की दुहाई देते हुए लगातार मंत्रिमंडल विस्तार को टाला जा रहा था एक बार फिर सियासी गलियारों में कैबिनेट विस्तार की चर्चा सुनाई देने लगी है

सूत्र बतलाते हैं कि शिवराज कैबिनेट का विस्तार 3 जनवरी को दोपहर 12:30 बजे होगा इसके लिए सूचना कुछ देर पहले ही मंत्रालय से राजभवन भेजी गई है वही खबर आ रही है कि राजभवन ने भी इस मामले की पुष्टि कर दी है मंत्रिमंडल विस्तार में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल 12:30 ज्योतिरादित्य समर्थक गोविंद सिंह राजपूत और तुलसीराम सिलावट को मंत्री पद की शपथ दिलाएंगे असल में अभी आधिकारिक तौर पर शपथ ग्रहण का समय तय नहीं हुआ है

विधायक अब नही कर पाएंगे ये काम, पढिये क्या है माजरा BHOPAL NEWS

वही राज्यपाल आनंदीबेन पटेल मध्य प्रदेश से बाहर हैं ऐसे में उनके रविवार सुबह भोपाल पहुंचने की संभावना है इसके साथ ही कैबिनेट में शामिल होने वाले चार अन्य विधायक कौन होंगे इसके नाम अब तक फाइनल नहीं हुए है बताते चलें कि इससे पहले मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दिल्ली का दौरा कर चुके हैं और इसके साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया से 1 महीने के भीतर उनकी चार मुलाकाते हुई हैं

भोपाल में सीएम शिवराज का बड़ा ऐलान BHOPAL NEWS

सूत्र बताते हैं कि शुक्रवार सुबह ही राष्ट्रीय नेतृत्व ने मंत्रिमंडल विस्तार की अनुमति दी है मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर हुए विधानसभा उपचुनाव में बीजेपी ने 19 सीटों पर जीत दर्ज की है हालांकि शिवराज मंत्रिमंडल के छह पद खाली हैं लेकिन सिंधिया समर्थक मंत्रियों का नाम तय माना जा रहा है जिसमें गोविंद सिंह राजपूत और तुलसीराम सिलावट नाम सबसे ऊपर है

सतना में टाइगरों की कब्रगाह बन रहा मुकुन्दपुर पार्क एक हफ्ते में दूसरे टाइगर की मौत SATNA NEWS

गौरतलब है कि उपचुनाव के नतीजे आए दिन महीने से अधिक का समय पूरा हो चुका है लेकिन शिवराज कैबिनेट का विस्तार नहीं हो पाया इसका एक कारण सिंधिया समर्थित हारे हुए नेताओं को कहीं और अर्जेस्ट करना है वहीं बीजेपी खाते से कई नाम ऐसे हैं जो मंत्रिमंडल में जगह पाने के हकदार हैं ऐसे में इन नेताओं को मंत्रिमंडल में जगह दी जाती है यह भी चर्चा का विषय है वही सीएम शिवराज के सामने चुनौती होगी कि वह कैबिनेट की बची हुई सीटों पर सिंधिया समर्थक विधायकों को शामिल करते हैं या बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं को कैबिनेट विस्तार में जगह देंगे

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button