भाजपा – कांग्रेस की मुसीबतें

भोपाल – डिजिटल डेस्क /कांग्रेस पार्टी के महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया और मैहर से भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी ये दोनों ही नेता अपनी अपनी पार्टी के लिए फिलहाल मुसीबत का सबब बने हुए है । अपने अपने बयानों से ये दोनों ही लोग सियासी गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म कर देते है । इनके बयानों की वजह से कभी भाजपा मुश्किल में आ जाती है तो कभी कांग्रेस ।

भाजपा की मुसीबतनारायण

आपको याद होगा मैहर विधायक नारायण त्रिपाठी ने विधानसभा में क्रॉस वोटिंग कर सबको चौंका दिया था । कयास लगाए जाने लगे कि दलबदल के खेल में माहिर नारायण त्रिपाठी कहीं भाजपा को छोड़ वापस कांग्रेस में शामिल तो नही हो जाएंगे , लेकिन बाद में उन्होंने खुद बयान जारी कर कहा कि वे भाजपा में थे और भाजपा में ही रहेंगे । यह मसला थमा ही था कि उन्होंने CAA और धारा 370 पर सवाल खड़े कर पार्टी को मुश्किल में डाल दिया । उन्होंने भाजपा को संविधान का पालन करने की नसीहत तक दे डाली । इनदिनों भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी प्रथक विंध्य प्रदेश की मांग को लेकर चर्चा में है ।

कांग्रेस की मुसीबतसिंधिया

बात करें ज्योतिरादित्य सिंधिया की तो CM की कुर्सी न मिलने के बाद से ही नाराज चल रहे कांग्रेस पार्टी के महासचिव सिंधिया ने पार्टी लाइन से अलग जा कर कश्मीर में लागू की गई धारा 370 पर मोदी सरकार का खुला समर्थन किया । वे यही नही रुके उन्होंने भाजपा सरकार के CAA के फैसले पर भी पार्टी के खिलाफ जा कर CAA का समर्थन किया और कहा कि यह विधेयक संविधान के विपरीत है कि नहीं यह अलग बात है, लेकिन इसमें भारत की वसुधैव कुटुंबकम की विचारधारा और सभ्यता है । सिंधिया ने मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार द्वारा की जा रही कर्जमाफी पर भी सवाल उठा कर सरकार और पार्टी को मुश्किल में डाल दिया था

इन दिनों ज्योतिरादित्य सिंधिया फिर अपनी ही कांग्रेस पार्टी की सरकार के ख़िलाफ़ सड़क पर उतरने के बयान को लेकर चर्चा में है । उनका कहना कि कांग्रेस पार्टी ने मध्यप्रदेश में चुनाव से पहले जो वचनपत्र जारी किया था उसे जल्द पूरा करें अन्यथा वे आम जनता के लिए अपनी ही सरकार के खिलाफ सड़क में उतर आएंगे ।

AAD

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button