पिता की हैवानियत 4 महीने के मासूम को पटक कर तोड़ दी कई हड्डियां BHOPAL NEWS

भोपाल 24 दिसंबर । पिता की प्रेम की कहानियां तो आपने कई सुनी होंगी लेकिन भोपाल के एम्स में एक ऐसा 4 साल का मासूम इलाज करवा रहा है जिसने पिता की हैवानियत झेली है और जिसने भी इस मासूम की यह दर्द भरी कहानी सुनी उसका दिल दहल उठा क्योंकि 4 महीने के इस मासूम को उसके पिता ने पटक पटक कर ऐसी हालत कर दी है कि उसके शरीर पर कई फ्रैक्चर हो गए हैं और जगह-जगह गहरे जख्म भी

चाइल्ड लाइन को कुछ दिन पहले जानकारी मिली कि एक बच्ची दर्द भरी हालत में इलाज करवाने आई है जांच में पता चला कि 4 महीने की मासूम बच्ची को इंजेक्शन का टीका लगा था जिसकी वजह से वह रोती थी इस बात पर उसका पिता इतना नाराज हो जाता कि उसे बिस्तर बिस्तर पर जोर जोर से पटकता है बच्ची के हाथ पैर और नाक सहित कई जगह फैक्चर है एक पैर में ऐसा जख्म है जैसे किसी ने चाकू से काटा हो एम्स के डॉक्टरों के मुताबिक बच्चियों की बच्ची की हड्डियां अलग-अलग समय पर टूटी हैं सर्वाइकल कंडीशन ठीक है बच्ची अपने आप रिकवर होगी उसकी हड्डियां अपने आप जुड़ जाएंगी बड़े होने पर हाथ पैर विकृत हो सकते हैं

कैदियों को पहुंचाने जा रहे थे नशे का सामान गेट पर पकड़े गए

जांच के दौरान किए गए सवालों पर युवक ने चाइल्ड लाइन को बरगलाने की कोशिश की चाइल्ड लाइन के मुताबिक जिस दंपत्ति की बच्ची है वह सागर के हैं और दोनों अलग-अलग धर्म के हैं पिता ने बताया कि बच्ची को पहला टीका प्राइवेट अस्पताल में लगा था जिससे बच्ची को दिक्कत नहीं हुई दूसरा और तीसरा पीपीटी का टीका सरकारी अस्पताल में लगवाया जिससे वह चीख चीख कर रोती थी इस दौरान एक बार उसके हाथ से बच्ची बिस्तर पर गिर गई उसे समझ नहीं आया कि टीके से बच्ची को रिएक्शन हुआ है उसके पैर में सूजन रहने लगी पिता का कहना है कि 1 दिन जब बच्ची खेल रहा था अचानक उसका पैर फट गया और खून निकलने लगा जिसके बाद सागर अस्पताल से एम्स भोपाल लाया गया इलाज करने वाले डाक्टरों ने बताया कि पैर का गाँव चमड़ी फट कर ब्लड निकलने के कारण नहीं बल्कि उस में कट लगा है चाइल्ड लाइन की डायरेक्टर अर्चना सहाय ने बताया कि बच्ची के पिता ने उसे बिस्तर पर पटकने की बात स्वीकारी है इसके आधार पर उचित धाराएं लगाकर कार्यवाही के लिए कहा गया है

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button