नेताओं का कभी पेट नही भरता ! आओ खायें मध्यप्रदेश (पार्ट 4)

साल 2016 मे खबरिया न्यूज चैनल जी न्यूज ( मध्यप्रदेश – छत्तीसगढ़ ) ने शिवराज मामा के एक बड़े कारनामे को उजागर किया था , खवरिया चैनल के विशेष कार्यक्रम ‘ बेनकाब ‘ मे बताया गया था कि कैसे मामा जी ने एक दागी अधिकारी को न केवल मुख्य सचिव बनाये रखा था बल्कि उन्हे एक अतिरिक्त बंगला भी आवंटित कर दिया था

यद्यपि यह पहला मामला नहीं था जब शिवराज पर भ्रष्ट अधिकारियों को संरक्षण देने के आरोप लगे थे अनेक दागी अधिकारियों के खिलाफ लोकायुक्त की अनुशंसा के बावजूद अभियोजन की मंजूरी न दिये जाने के कारण भी शिवराज खासे बदनाम हुये थे मगर इससे शिवराज की राजनैतिक हैसियत मे कोई फर्क नहीं आया वे पहले भी पार्टी के चहेते नेता रहे है और आज भी पार्टी को उनका कामकाज अच्छा लगता है ।

बहरहाल कल खबरिया चैनल जी न्यूज ने अपने खास कार्यक्रम बेनकाब मे एक बार प्रशासनिक गफलतों पर प्रहार करते हुये बीजेपी के राज्यसभा सांसद ज्योतिरा दित्य सिंधिया को बेनकाब करने का काम किया है

यह भी पढ़े विकास के लिये प्रतिबद्ध है प्रदेश सरकार : मुख्यमंत्री श्री चौहान

कल इस कार्यक्रम के जरिये यह बताया गया है कि नेताओं का कभी पेट नही भरता है क्योंकि यदि उनका पेट भर जाता तो आज देश का आम आदमी भी खुशहाल हो जाता ….. वास्तव मे इनकी रसूख की भूख . कमाई की हूक और जमीन की लूट यह दर्शाती है कि सूबे का नेता भूखा है …

शायद तभी आओ खाये मध्यप्रदेश अभियान के तहत ग्वालियर के बेशकीमती भूखंड को वहीं का रसूख खा गया कहते हैं कि महाराज के दवाब मे सरकारी जमीन का नामांतरण सिंधिया राजपरिवार से जुड़े लोगो और उनके ट्स्टो के नाम कर दिया गया है

लोग बतलाते हैं कि रीवा की लक्ष्मण बाग की जमीन पर भी वहाँ के महाराजा पुष्पराज सिंह ने भी दावा किया था मगर उन्हे कामयाबी नही मिली शायद इसलिये क्योंकि वे सरकार बनाने और गिराने की कूबत नही रखते थे

अब खबरिया चैनल कि माने तो 2019 मे कमलनाथ की सरकार ने ग्वालियर की एक वेशकीमती जमीन सिंधिया और सिंधिया के करीबी लोगो के नाम कर दी थीसवाल यह उठता है कि सरकार चले जाने के इस घोटाले की परतें क्यो खुल रही हैं?

सूत्रों की माने तो कांग्रेस से इस्तीफा दे देने के बाद और भारतीय जनता पार्टी का हिस्सा बनने के तुरत बाद ही ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ कमलनाथ सरकार ने ग्वालियर की जमीन घोटाले की फाईल मंगवा ली थी मगर जांच शुरू होने से पहले ही उनकी सरकार चली गई और मामला दबा दिया गया

यह भी पढ़े सिंधिया को काले झंडे दिखाने वाले NSUI के प्रदेश महासचिव जिला बदर

लेकिन उपचुनावों से ठीक पहले इस मामले ने फिर से तूल पकड़ लिया है
अब कांग्रेस ग्वालियर की बेशकिमती सरकारी जमीन के निजिकरण के मामले मे सिंधिया को घेरने जा रही है और मजे की बात यह है कि जमीन के इस घोटाले मे कांग्रेस हमलावर है और बीजेपी खामोश है

एम पी मे
जमीन के कैसे कैसे घोटाले …

यह भी पढ़े कुत्तो की लड़ाई में हुआ था विंध्य के इस फ़िल्मी एक्टर का तलाक, विदेशी पत्नी ने दायर की अपील

प्रदेश मे सरकारी जमीनों की हेराफेरी का यह कोई पहला मामला नही है भोपाल उज्जैन इंदौर सागर व सतना जिले के जमीन घोटालों की भी खूब चर्चा हुई थी मगर आज तक किसी का भी बाल बांका तक नही हुआ …. फिलहाल जनता मोदी जी की तरफ देख रही है और यह मानकर चल रही है कि ना खाऊंगा और ना खाने दूंगा की नीति पर अमल करते हुये देर सबेर ही सही मगर कभी ना कभी मोदी जी शिवराज के आओ खायें मध्यप्रदेश जैसे अकल्याणकारी कार्यक्रम पर अंकुश जरूर लगायेंगे – –

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button