ग्रामीणों ने बचाई ट्रेन, वर्ना खाख हो जाती पूरी बोगियां

मुरैना, 27 नवम्बर (हि.स.)। एसी कोच के शौचालय से शॉर्ट सर्किट के कारण लगी आग ने चार बोगियों को अपनी चपेट में ले लिया। हेतमपुर रेलवे स्टेशन पर रूकी उधमपुर एक्सप्रेस की दो बोगियां जब धूं-धूं कर जलने लगी तब रेल विभाग के लिये ग्रामीण युवक राहत का फरिश्ता बनकर सामने आये। इन्होंने एसी कोच के सभी यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकालने में कड़ी मशक्कत की वहीं जल रही कोच के आगे-पीछे के कोच की कपलिंग को तोडक़र अन्य कोच को अलग किया। इन कोच को हाथों से धकेलकर दूर खड़ा कर सुरक्षित किया, ग्रामीण युवक न होते तो आग की भेंट चढ़ जातीं आधा दर्जन बोगियां

ग्रामीण युवक न होते तो आग की भेंट चढ़ जातीं आधा दर्जन बोगियां

बता दें कि ग्रामीण युवक इस घटनाक्रम में मददगार नहीं होते तो संभवत: उधमपुर एक्सप्रेस की आधा दर्जन से अधिक बोगियां जलकर राख हो जातीं। इन युवकों ने जनहानि रोकने में भी अपनी भूमिका का निर्वहन किया। जब एसी कोच के अंदर आग के कारण धुंए भर गये उस दौरान यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकालने शीशों को पत्थरों से तोड़ दिया। इससे कोच में विस्फोट की स्थिति नहीं बन पाई। एक समय ऐसा लगा कि धुंए के कारण बंद कोच फट न पड़े। इन ग्रामीण युवकों ने यात्रियों को सुरक्षित स्थान पर ले जाकर ढांढ़स भी बंधाया। इस आगजनी पर काबू पाने के लिये दमकल विभाग ने भी निष्ठा से लगातार आठ घंटे काम किया।

यह रेलगाड़ी 3:30 बजे के लगभग हेतमपुर रेलवे स्टेशन पर पहुंची। इसमें आग लग चुकी थी। पुलिस प्रशासन के अधिकारियों की सूचना पर से मुरैना दमकल विभाग ने तेज गति से अपने वाहनों को मौके पर भेजा। पहली दमकल 4 बजे के लगभग मौके पर पहुंचकर अपने काम में जुट गई। इसके बाद मुरैना, अम्बाह, बानमोर की दमकलों के साथ मालनपुर पुलिस तथा राजस्थान के धौलपुर बाड़ी की दमकलें भी लगातार आग बुझाने में जुटीं रहीं।

देर रात 12 बजे तक इस आग पर पूरी तरह काबू पा लिया गया। फिर भी सुरक्षा की दृष्टि से एम दमकल रात भर वहां खड़ी रही। जिला प्रशासन तथा पुलिस अधिकारियों ने भी इस आगजनी को गंभीरता से लिया। आलाधिकारी मौके पर आग बुझने तक रूके रहे। पुलिस अधिकारियों ने जनहानि की तफ्तीश के लिये जले हुये कोचों में गहन तलाशी की। मुरैना पुलिस अधीक्षक गंभीर बीमारी के बाद भी मौके पर पहुंचे और कोचों का मुआयना किया।

Panna के हीरा ने चमकाई समशेर की किस्मत, 6.66 कैरेट का चकदार हीरा

वहीं प्रशासन द्वारा यात्रियों को ढांढ़स बंधाने के साथ ही स्वल्पाहार व पेयजल की पूर्ण व्यवस्था की। उधमपुर एक्सप्रेस की जली हुई बोगियों को पृथक कर शेष कोच को जोडक़र तैयार किया गया। इनमें सभी यात्रियों सुविधानुसार स्थान भी प्रदान कर रेलगाड़ी को ग्वालियर के लिये रवाना कराया।

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button