शावर लेते समय न करें गलतियां, जा सकती है आपकी जान

Heart attack: हृदय रोग लंबे समय से दुनिया भर में मौत का प्रमुख कारण रहा है। फिर भी यह आश्चर्य की बात है कि पिछले कुछ वर्षों में युवा और स्वस्थ लोगों में दिल के दौरे की घटनाओं में कैसे वृद्धि हुई है। खासकर कोरोना वायरस महामारी के बाद। कई हस्तियां, अभिनेता, गायक और क्रिकेटर दिल से जुड़ी बीमारियों के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं।

हालांकि हृदय रोग अक्सर खराब जीवनशैली विकल्पों जैसे उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल और धूम्रपान से जुड़ा होता है, लेकिन नहाने की एक लोकप्रिय आदत भी है जो इस घातक स्थिति के जोखिम को बढ़ा सकती है।आप की जान भी जा सकती है 

बिना बिजली चलते हैं Solar Power Generator, पूरा घर रहेगा रोशन, जानें कीमत

नहाने की आदतों से दिल का दौरा पड़ने का खतरा कैसे बढ़ जाता है? आप की जान भी जा सकती है 

शावर लेते समय न करें गलतियां, जा सकती है आपकी जान
Photo : Social Media

विशेषज्ञों के अनुसार ठंडे पानी से नहाने की आदत हृदय रोगियों को नुकसान पहुंचा सकती है, क्योंकि इससे दिल का दौरा या अनियमित हृदय गति हो सकती है।आप की जान भी जा सकती है 

ठंडा पानी त्वचा में रक्त वाहिकाओं को झकझोर सकता है, जिससे वे सिकुड़ जाते हैं और पूरे शरीर में रक्त के सुचारू प्रवाह में बाधा उत्पन्न होती है। इससे हृदय गति बढ़ जाती है और हृदय के लिए पूरे शरीर में रक्त पंप करना कठिन हो जाता है। नतीजतन, शरीर में दबाव बढ़ जाता है जिससे स्वस्थ लोगों में भी दिल का दौरा पड़ता है। आप की जान भी जा सकती है 

अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी में प्रकाशित शोध का हवाला देता है, जिसमें कहा गया है कि गर्म मौसम में ठंडे पानी से नहाने से युवा, फिट और स्वस्थ लोगों में दिल के दौरे को रोका जा सकता है। यह असामान्य हृदय ताल को ट्रिगर कर सकता है और गंभीर मामलों में अचानक आप की जान भी जा सकती है ।

Satna News: कलेक्टर दिलाएंगे महापौर तथा पार्षदों को शपथ, निर्वाचन आयोग ने जारी किए निर्देश

क्या ठंडे पानी से नहाना हमेशा हानिकारक होता है?

शावर लेते समय न करें गलतियां, जा सकती है आपकी जान
Photo : Social Media

अगर समझदारी से इस्तेमाल किया जाए तो ठंडा पानी नुकसान से ज्यादा फायदा भी कर सकता है। ठंडे पानीसे नहाने पर एक अध्ययन में पाया गया कि जो लोग 30 से 90 सेकंड तक ठंडे पानी से नहाते थे, उनके बीमार होने की संभावना 29 प्रतिशत कम थी, क्योंकि इस अभ्यास से उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा मिला।

Disclaimer: लेख में उल्लेखित सलाह और सुझाव केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए हैं और इसे पेशेवर चिकित्सा सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। यदि आपके कोई प्रश्न या चिंताएं हैं तो हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button