सूर्य मकर संक्रांति पर उत्तरायण होता है या नहीं, जानिए वैज्ञानिक तथ्य

भोपाल, 13 जनवरी (हि.स.)। पृथ्वी से दिन में दिखने वाला तारे सूर्य को पूरे देश में 14 जनवरी और 15 जनवरी अलग-अलग नामों के पर्व में पूजा जा रहा है। देश के पश्चिम एवं मध्यभाग में मकर सक्रान्ति तो दक्षिण में पोंगल तो पूर्व में बिहु नाम के पर्व में पृथ्वी पर जीवन देने वाले सूरज की आराधना की जा रही है। नेशनल अवॉर्ड प्राप्त विज्ञान प्रसारक सारिका घारू ने सूरज से संसार नामक कायर्क्रम में सूर्य का वैज्ञानिक महत्व बताया।

सूर्य मकर संक्रांति पर उत्तरायण होता है या नहीं

सारिका ने बताया कि सूरज एक तारा है जिसका प्रभाव केवल सौरमंडल के आठवे ग्रह नेप्च्यून तक ही नहीं बल्कि इसके बहुत आगे तक फैला हुआ है। सूरज की तीव्र ऊर्जा और गर्मी के बिना पृथ्वी पर जीवन नहीं होता।

सारिका ने बताया कि सूर्य हाइडोजन एवं हीलियम गैस का बना हुआ है। इसकी आयु लगभग साढ़े चार अरब वर्ष है। अगर सूरज कोई खोखली गेंद होता तो उसे भरने में लगभग 13 लाख पृथ्वी की अवश्यकता होती। हमारी पृथ्वी इससे लगभग 15 करोड़ किमी दूर स्थित है। सूरज का सबसे गर्म हिस्सा इसका कोर है जहां तापमान 150 करोड़ डिग्री सेल्सियस से उपर है। नासा द्वारा 24 घंटे सूरज के वातावरण से इसकी सतह एवं अंदर के हिस्से का अध्ययन की किया जा रहा है। इसके लिये अंतरिक्षयान सोलर प्रोब, पार्कर, सोलर आबिर्टर एवं अन्य यान शामिल हैं।

सारिका ने बताया, मान्यता है कि मकर सक्रान्ति के दिन से सूर्य उत्तरायण हो जाता है लेकिन वास्तव में अब ऐसा नहीं होता है। हजारों वर्ष पहले सूरज मकर सक्रान्ति के दिन सूरज उत्तरायण हुआ करता था। इसलिये यह बात अब तक प्रचलित है।

घर में अगर नहीं है सुख समृद्धि और धन तो करें यह उपाय

वैज्ञानिक रूप से सूर्य के चारों ओर परिक्रमा करती पृथ्वी के झुकाव के कारण पृथ्वी से देखने पर 21 दिसम्बर के दिन सूरज मकर रेखा पर था। उस दिन उत्तरी गोलार्द्ध में रात सबसे लम्बी थी। 22 दिसम्बर से दिन की अवधि बढ़ने लगी है और तब से ही सूरज उत्तरायण हो चुका है।

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button