MP : आशिक मिजाज है ये अफसर, नौकरानी समेत 4 लड़कियों से रचाई शादी

इंदौर: सीबीआई व व्यापम के विशेष न्यायाधीश विजेंद्र सिंह रावत उनके फर्जी हस्ताक्षर से कोर्ट आदेश बनाकर आईएस बने संतोष वर्मा के मामले में कई चौका देने वाले खुलासे हो रहे हैं संतोष वर्मा के बारे में पता चला कि वह एक आशिक मिजाज अधिकारी है जहां भी उसकी पोस्टिंग हुई उसने वहीं पर प्रेमलीला रच ली वर्मा ने चार शादी करने के साथ ही एक युवती को अपने प्रेम जाल में फंसा कर रखा

बता दे की शादी करने वालों में से एक उसके यहां काम करने वाली बाई भी शामिल है पुलिस पूछताछ में वह खुद पर लगे आरोपों को नकार रहा है लेकिन लगातार उसके कारनामे सामने आ रहे हैं रिमांड खत्म होने पर पुलिस उसे बुधवार को कोर्ट में पेश करेगी उधर सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एक-दो दिन में उस पर निलंबन की गाज गिर सकती है

यह भी पढ़ें  –  शादी का झांसा देकर महिला से डेढ़ माह तक किया दुष्कर्म, आरोपित फरार

आशिक मिजाज फर्जी आईएस की चार पत्नी और एक माशूका

बताते चलें कि वर्मा ने चार शादी की और एक व्यक्ति को अपने प्रेमजाल में फंसा कर रखा रीवा में सांख्यिकी अधिकारी रहते हुए वर्मा को उसी के यहां काम करने वाली युवती से प्रेम हो गया इसके बाद उसने उसकी नौकरानी से शादी कर ली थी इसके बाद जब वह डिप्टी कलेक्टर बने तो उन्होंने एक नहीं दो शादी कर ली कुछ समय बाद वर्मा को हरदा की रहने वाली एक युवती से प्यार हो गया पता चला है कि इस युवती पर तो वर्मा इतना फिदा थे कि उन्होंने करोड़ों रुपए उस पर लुटा दिया हालांकि युवती ने जब शादी का दबाव बनाया तो वह शादी करने से मुकर गया इस पर गुस्साए लड़की थाने पहुंच गई और वर्मा को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया

बीमा एजेंट से शादी कर साथ नहीं रहना वर्मा को पड़ा भारी

वही धार में पदस्थ वर्मा को इंदौर में रहने वाली बीमा एजेंट युवती से प्यार हो गया इसके बाद दोनों का मिलना जुलना बढ़ा और दोनों ने शादी कर ली वर्मा ने शादी तो कर ली लेकिन उसके साथ रहने में आनाकानी करने लगा इसी बात से गुस्साई युवती इंदौर के लसूड़िया थाने पहुंची और वर्मा के खिलाफ प्रकरण दर्ज करवा दिया मामले में जांच शुरू हुई तो वर्मा के फर्जी आईएएस बनने का भी खेल बाहर आ गया सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वर्मा की काफी ऊपर तक पहुंच थी इस पूरे मामले में दिग्गजों की मिलीभगत से पूरा खेल हुआ है इसके लिए वर्मा ने करोड़ों रुपए खर्च किए हैं

यह भी पढ़ें  –मिस्ड कॉल से शुरू हुआ था षड्यंत्र वाला प्यार

संतोष वर्मा पर गिर सकती है निलंबन की गाज

इस पूरे मामले में कोई खुलकर तो कुछ नहीं कह रहा बताया जा रहा है कि इस पूरे प्रकरण में भोपाल से भी जानकारी मांगी गई है अब तक जो बातें सामने आई है पुलिस ने वह भेज भी दिया है इसी बात से अनुमान लगाया जा रहा है कि एक-दो दिन में वर्मा के खिलाफ निलंबन की कार्यवाही हो सकती है एसपी आशुतोष बागरी ने बताया कि मामले में जैसे-जैसे सबूत सामने आएंगे उसी के अनुसार दोषियों के नाम प्रकरण में बढ़ाए जाएंगे वर्मा के विभाग प्रमुखों को उनके गिरफ्तारी की सूचना भेज दी गई है मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस वर्मा की मुलाकात उनके रिश्तेदारों से भी नहीं करवा रही है

फर्जी आदेश क्यों बनाया

वहीं राज्य प्रशासनिक सेवा से भारतीय प्रशासनिक सेवा में प्रमोट करने के अधिकारी की जांच की जाती है मामूली अपराध होने पर आईएस अवॉर्ड रुक जाते हैं ऐसे में वर्मा के खिलाफ दो केस लंबित होने की जानकारी डीपीसी को मिलती तो उन्हें अपने सेवाकाल में कभी आईएस अवार्ड होता ही नहीं इसलिए उसने फर्जी आदेश बनाकर डीपीसी के समक्ष लगा दिए

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button