MP : आवारा लड़के छेड़ते थे इसलिए 11वीं की छात्र ने खुद को जिंदा जलाया, कहा लड़कों ने जिंदगी बर्बाद कर दी

MP: Stray boys used to tease,

जबलपुर। मध्य प्रदेश( MP) के जबलपुर में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. यहां 17 साल की एक लड़की ने प्रताड़ित और यौन प्रताड़ना के बाद खुद को जिंदा जला लिया। घटना में वह95%  जल गया थी।

मंगलवार देर रात जबलपुर (MP) मेडिकल कॉलेज में उसकी मौत हो गई। युवती ने सुसाइड नोट भी लिखा था। इसमें तीन नाबालिग बेटे और दो बेटियों के नाम हैं। बताया जाता है कि आरोपियों ने उसकी जिंदगी बर्बाद कर दी है।

पुलिस ने देर रात तक पांच आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है।जानकारी के मुताबिक नाबालिग छात्रा 11वीं में पढ़ती थी। उसने आग लगाने से पहले एक नोट भी लिखा था। आशा और ममता केवट समेत 16 से 18 साल के तीन नाबालिगों को दोषी ठहराया गया है।

लड़की ने लिखा- इन लोगों ने मेरी जिंदगी बर्बाद कर दी है। पुलिस ने भी मेरी शिकायत नहीं सुनी। सॉरी पापा – आई एम सॉरी।

सुसाइड नोट में लिखा…
‘इन लोगों ने मेरी जिंदगी मुश्किल कर दी है। मैं उनसे नाराज हूं। मेरे अनुराग चौधरी, वरुण, आशा, तन्वी और ममता ने मेरी जिंदगी मुश्किल कर दी है। उन्होंने मेरी जिंदगी बर्बाद कर दी। लड़के उसके घर घूमते हैं।

MP : आवारा लड़के छेड़ते थे इसलिए 11वीं की छात्र ने खुद को जिंदा जलाया, कहा लड़कों ने जिंदगी बर्बाद कर दी

MP थाने में शिकायत की गई, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं ताकि मेरी वजह से मेरी बहनों की जिंदगी बर्बाद न हो जाए। लड़की के पिता ऑटो चालक थे और चार बहनों में सबसे छोटे थे।

लड़की के पिता ऑटो चालक हैं और मस्ताना चौक रणजी इलाके में रहते हैं। प्रताड़ित करने वाली लड़की 4 बहनों में सबसे छोटी है। पिताजी सुबह चले गए। मंगलवार दोपहर छात्र ने बरामदे में जाकर मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दी।

चीख-पुकार सुनकर बहनों ने पड़ोसियों की मदद से उन्हें बचाने का प्रयास किया। उन्होंने पुलिस को भी सूचना दी। बच्ची को मेडिकल अस्पताल रेफर कर दिया गया है। इलाज के दौरान रात में उसकी मौत हो गई।

छात्र के सुसाइड नोट और बयान के आधार पर (MP) पुलिस ने आरोपी के खिलाफ ब्लैकमेलिंग और डराने-धमकाने समेत अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

आरोपी (MP) थाने के बाहर खड़ा था, लेकिन पुलिस उसे पकड़ नहीं पाई
सोमवार को मुख्य आरोपी और उसका नाबालिग दोस्त लड़की के घर आया और उसे धमकाया. लड़की अपनी दो अन्य बहनों के साथ रांझी थाने में शिकायत दर्ज कराने गई थी।

छात्रा की बड़ी बहन ने कहा कि पुलिस ने शिकायत पर संज्ञान लिया है. उन्होंने कहा कि पुलिस उन्हें घर भेज देगी। जब आरोपी थाने (MP) के बाहर खड़ा था। छात्रा की बड़ी बहन ने आगे कहा कि आरोपी ने शिकायत की तो उसका मुकदमा तुरंत दर्ज कर लिया गया.

छात्रा ने एक महीने पहले ट्रेन से आत्महत्या का प्रयास किया था, जब उसे दो बहनों और पैदल चलने वालों ने बचाया था। बच्ची की मां की दो साल पहले मौत हो गई थी। बड़ी बहन की शादी हो चुकी है। छात्रा अपनी दो बड़ी बहनों के साथ घर पर रहती है।

किशोर आरोपी छात्र के क्षेत्र में रहता था
मुख्य किशोर आरोपी से पहले छात्रा इसी इलाके में किराए के मकान में रहती थी. 24 सितंबर को आरोपी नाबालिग लड़के ने घर में घुसकर लड़की के पिता के खिलाफ मारपीट व धमकी देने का मामला दर्ज कराया था. उसी दिन जब पिता ने बच्ची को डांटा तो वह बिना बताए घर से निकल गया।

पिता के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज किया गया है। अगले दिन लड़की घर पहुंची। 26 सितंबर को कोर्ट को दिए बयान में उन्होंने कहा कि स्कूल के लिए देर से आने के बाद उनके पिता ने उन्हें फटकार लगाई,

इसलिए वह घर से निकल गए और पूरी रात रेलवे स्टेशन पर रहे और सुबह जब उनका गुस्सा शांत हुआ तो वापस लौट आए. यहां मारपीट की घटना के बाद आरोपी लड़का घर छोड़कर कहीं और रहने लगा।

नाबालिग लड़की ने खुद को आग लगा ली। मामले की( MP) पुलिस जांच में खुलासा हुआ है कि छात्रा आशा खन्ना तीन नाबालिगों के साथ ममता केवट को लेकर परेशान थीं. उसके घर से एक सुसाइड नोट मिला, जिसमें उसने आरोपी का जिक्र किया।

प्रिंसिपल ने छात्र को स्कूल से निकाला तो लड़के ने चलाई दनादन गोलियां

नायब तहसीलदार को एक मृत बयान में आगे बताया गया कि दोनों नाबालिग उसे ब्लैकमेल कर रहे थे और सेटलमेंट के बदले 5,000 रुपये की मांग कर रहे थे. उन्हें भी धमकाया गया।- संजय अग्रवाल, एएसपी, जबलपुर

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button