मुरैना: करोड़पति निकला नगर निगम का लेखाधिकारी

मुरैना, 21 जुलाई। नगर निगम मुरैना के लेखाधिकारी संतोष शर्मा के घर पर बुधवार सुबह लोकायुक्त पुलिस ने दबिश दी। आय से अधिक संपत्ति की शिकायत पर पहुंची लोकायुक्त पुलिस के अधिकारी उस समय दंग रह गए जब लेखाधिकारी के घर से लाखों की नगदी, सोने चांदी के जेवरात, कई मकान व चार पहिया वाहन सहित लाखों का बैंक बैंलेंस मिला। देर शाम तक लोकायुक्त पुलिस की जांच पड़ताल जारी थी। प्रारंभिक जांच पड़ताल में करोड़ों रुपये की चल-अचल संपत्ति का खुलासा हुआ है।

नगर निगम मुरैना के लेखाधिकारी संतोष शर्मा के पुरानी हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी के बसंत बिहार स्थित निवास पर बुधवार की सुबह 4 बजे लोकायुक्त टीम ने छापामार कार्रवाई की। लोकायुक्त डीएसपी पी पाराशर के नेतृत्व में पहुंची टीम को देख संतोष शर्मा के घर पर अफरा तफरी सी मच गई। इसके बाद अधिकारियों ने अपनी जांच पड़ताल प्रारंभ की।

जांच पड़ताल में जब संतोष शर्मा की अलमारियों को खोला गया तो उनमें पांच-पांच सौ रुपये के नोटों की कई गड्डियां रखीं हुईं मिलीं। इसके अलावा सोने चांदी के जेवरात भी मिले। साथ ही खेत, मकान व प्लॉट की रजिस्ट्रियां, निवेश के कागज भी बरामद हुए हैं।

बताया जाता है कि लोकायुक्त पुलिस ने संतोष शर्मा के तीन ठिकानों पर एक साथ दबिश दी थी। जिसमें उनका ग्वालियर के तारागंज में स्थित तीन मंजिला मकान एवं मुरैना के नैनागढ़ रोड़ पर हॉलेण्ड ट्रैक्टर की एजेंसी शामिल है। लोकायुक्त पुलिस की कार्रवाई देर शाम तक जारी रही।

उधर जब लेखाधिकारी के पास से करोड़ों रुपये की संपत्ति का खुलासा हुआ तब दोपहर के समय लोकायुक्त एसपी संजीव सिन्हा भी मुरैना आ गए और उन्होंने कार्रवाई पर नजर रखी। चूंकि आज ईद की वजह से सरकारी छुट्टी थी, इसलिए बैंक के लॉकर्स में क्या रखा है इसकी जानकारी नहीं हो पाई। अब इसका खुलासा गुरुवार को ही हो पाएगा।

लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक संजीव सिन्हा के मुताबिक संतोष शर्मा के भ्रष्टाचार की शिकायत दो माह पूर्व की गई थी। इसकी जांच कराई गई। जब जांच में यह स्पष्ट हो गया कि लेखाधिकारी ने आय से अधिक संपत्ति अर्जित की तब उनके खिलाफ मामला दर्ज कर आज छापामार कार्रवाई की गई।

करोड़ों की चल-अचल संपत्ति का खुलासा: लोकायुक्त की कार्रवाई के दौरान घर से 8.50 लाख नगद, 350 ग्राम सोना, एक किलो चांदी, तीन लग्जरी कार, दो पहिया वाहन, तीन मकान के अलावा, 8 बैंक खातों में 40 से 50 लाख का बैलेंस तथा तीन लॉकर्स का पता चला है। इसके अलावा 8 बीमा पॉलीसी, जमीन व प्लॉट की रजिस्ट्री तथा अनुबंध पत्र मिले हैं। अचल संपत्ति की सही कीमत कितनी है यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा। लेकिन प्रारंभिक जांच में करीब दस करोड़ रुपये की अचल संपत्ति का अनुमान लगाया जा रहा है।

 

 

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button