शादी का झांसा देकर नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले की जमानत याचिका निरस्त

अनूपपुर, 10 जुलाई । विशेष न्यायाधीश (पॉक्सों एक्ट) भूपेन्द्र नकवाल के न्यायालय ने शादी का झांसा देकर नाबालिग से दुष्कर्म करने वाले आरोपित 22 वर्षीय धनीराम महरा पिता बलराम महरा निवासी टिकरीटोला बरबसपुर थाना कोतवाली अनूपपुर की ओर से प्रस्तुत जमानत याचिका निरस्त कर दी। आरोपित पर धारा 376, 376(3) 376(2)हृ, 496 भादवि 3/4, 5एल/6 पॉक्सों एक्ट का मामला दर्ज है और अदालत ने जिला अभियोजन अधिकारी रामनरेश गिरि के विरोध के बाद जमानत याचिका निरस्त कर दी।।

अभियोजन मीडिया प्रभारी राकेश पाण्डेय न शनिवार को बताया कि आरोपी की बहन पीडि़ता के साथ एक ही स्कूल में पढ़ती थी जिसके कारण पीड़िता का आरोपी के घर आना जाना होता था। आरोपी पीड़िता के साथ छेड़छाड़ करता था एवं आत्महत्या करने की धमकी देकर शादी करने का दबाव बनाता था। आरोपी पीड़िता को बहला-फुसलाकर शादी करने का झांसा देकर लगातार 02 वर्ष तक उसके साथ दुष्कर्म करता रहा।

यह भी पढ़ें –  कमरे पर ले जाकर युवती के साथ किया दुष्कर्म,किसी से कहने की बात पर दी धमकी

आरोपित ने जमानत आवेदन में अपने को निर्दोष बताते हुए कहा रंजिशन झूठा फंसाया गया है। जिस पर अभियोजन ने विरोध करते हुए कहा कि अभी प्रकरण में डीएनए रिपोर्ट आना शेष हैं,कई महत्वपूर्ण साक्षियों के साक्ष्य होना शेष हैं, पीडि़ता अपना बयान आरोपी के दबाव में आकर बदल सकती हैं। यदि जमानत दी जाती है तो वह पीडि़ता एवं अन्य गवाहों को प्रभावित करेगा। उभयपक्षों के तर्कों को सुनने के पश्चात न्यायालय ने जिला अभियोजन अधिकारी के तर्कों से सहमत होते हुए आरोपित की जमानत निरस्त कर दी।

 

 

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button