महंगाई में सस्ती हुई Iron Rods,पूरा करें अपने ड्रीम होम का सपना

अब आप अपने ड्रीम होम का सपना आसानी से पूरा कर सकते हैं। सरिया (Iron Rods) सहित कई भवन निर्माण सामग्रियों की कीमत में गिरावट आने से भवन निर्माण कार्य में आसानी होगी। अगर आप घर बनाने का सपना संजोएं हैं तो यह आप के लिए अच्छी खबर है। सरकार ने स्टील पर एक्सपोर्ट ड्यूटी हाल ही में बढ़ा दी थी। इसकी वजह से घरेलू बाजार में स्टील के दाम तेजी से गिरे हैं। सरिया (Iron Rods) के दाम में आई कमी की मुख्य वजह भी यही है। इसके अलावा देश के कई।

Photo By Google

कई हिस्सों में हो रही भारी बारिश के चलते निर्माण गतिविधियों में कमी आई है, जिसका असर डिमांड पर हुआ है ।इन दिनों बिल्डिंग मटेरियल के रेट काफी कम हैं। सबसे ज्यादा कीमतें सरिया (Iron Rods) की कम हुई हैं। जानते है भवन निर्माण सामग्रियों की आज की कीमत।

मोरंग के दाम में भी गिरावट

वहीं मोरंग के दाम में भी गिरावट दर्ज की गयी है। सफेद बालू के दाम में गिरावट से घर बनवाना भी सस्ता हो गया। मोरंग के दाम 9000 से 9500 प्रति सौ फीट होते हैं।पर इस बार रेट में गिरावट आई है और यह 8500 से 9000 प्रति सौ फीट बिक रहा है। ईट की बात करें जो पहले 9000 से 10000 रुपये प्रति हजार बिक रहा था वह इस समय 7000 से 8000 रुपये प्रति हजार बिक रहा है। सफेद बालू के रेट में भी गिरावट आई है। इस समय यह 2100 रुपये प्रति सौ फीट बिक रहा है। जिसमें लगभग 300 से 400 रुपये प्रति सौ फीट की कमी आई है। सीमेंट 400-500 रुपये प्रति बोरी बिक रहा है। बीते साल में मोरंग काफी महंगा बिका था।

Photo By Google

ये है नई कीमत

सरिये की बात करें तो इसे सरकारी दखल से भी फायदा हुआ है।ये तमाम फैक्टर्स सरिया (Iron Rods) को फिर से सस्ता बना रहे हैं।पिछले 02 महीने के दौरान इसके भाव में करीब 7000 रुपये तक की गिरावट आई है।अभी गोरखपुर में सरिये का भाव कम होकर 55 हजार रुपये प्रति टन तक आ गया है। सरकार ने स्टील पर एक्सपोर्ट ड्यूटी हाल ही में बढ़ा दी थी। इसकी वजह से घरेलू बाजार में स्टील के दाम तेजी से तेजी से गिरे हैं। सरिया (Iron Rods) के दाम में आई कमी की मुख्य वजह भी यही है।

सरिये का भाव कम

आंकड़ों को देखें तो टीएटी सरिया का खुदरा भाव अप्रैल की शुरुआत में 75,000 रुपये प्रति टन के आसपास था, जो 15 जून को गिरकर करीब 65 हजार प्रति टन पर आ गया था। खुदरा बाजार के हिसाब से देखें तो अप्रैल में एक समय सरिये का भाव 82,000 रुपये प्रति टन पहुंच गया था, जो अभी कम होकर 50 से 55 हजार रुपये प्रति टन रह गया है। इसका मतलब हुआ कि अप्रैल के रिकॉर्ड हाई की तुलना में सरिया (Iron Rods) का भाव अभीकरीब 30 हजार रुपये प्रति टन कम है।

Photo By Google

 इसे भी पढ़े- पागल बोलते थे लोग लेकिन छात्र ने कर दिखाया कमाल, कबाड़ के सामान से बना डाली Electric Bike

स्टील पर एक्सपोर्ट ड्यूटी

सरकार ने स्टील पर एक्सपोर्ट ड्यूटी हाल ही में बढ़ा दी थी। इसकी वजह से घरेलू बाजार में स्टील के दाम तेजी से गिरे हैं।सरिये के दाम में आई कमी की मुख्य वजह भी यही है। इसके अलावा देश के कई।कई हिस्सों में हो रही भारी बारिश के चलते निर्माण गतिविधियों में कमी आई है, जिसका असर डिमांड पर हुआ है। मानसून आने के बाद से देश के विभिन्न हिस्सों में लगातार बारिश हो रही है। इसका सीधा असर निर्माण गतिविधियों पर हुआ है। बारिश और बाढ़ जैसे हालात के चलते निर्माण गतिविधियों के कम होने से सीमेंट, सरिया (Iron Rods) जैसी सामग्रियों के भाव भी कम हुए हैं।

Article By Chanda

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button