Electricity Bill हो जाएगा आधे से कम! बस मीटर के पीछे फिट कर दें 300 रुपये से कम कीमत वाला ये डिवाइस

आज हम आपको एक ऐसे डिवाइस(Device) के बारे में बताने जा रहे हैं जो बिजली बिल(Electricity Bill) को आधे से भी कम कर देगा। इसे लगाने से बहुत फायदा होगा। कोई शॉर्ट सर्किट(Short Circuit) नहीं होगा और कोई विद्युत उपकरण क्षतिग्रस्त(damaged) नहीं होगा। मानसून के दौरान बाहर की हवा भले ही ठंडी हो, लेकिन घर में नमी रहती है। नमी के कारण एसी और कूलर का ज्यादा इस्तेमाल होता है। ऐसे में बिजली बिल(Electricity Bill) ज्यादा होता है।आइए जानते हैं इस डिवाइस के बारे में…

Photo By Google

कम होगा बिजली का बिल

इसे लगाने का फायदा यह है कि किसी भी घरेलू सामान(Household Items) को नुकसान नहीं होगा। यह अतिरिक्त करंट को घर में प्रवेश करने से रोकता है। कंपनी का दावा है कि इंस्टालेशन के बाद बिजली बिल(Electricity Bill) हर महीने 35 फीसदी कम होने लगेंगे। यह उपकरण(Device) वोल्टेज स्टेबलाइजर के रूप में भी कार्य करता है। यदि वोल्टेज(Voltage) ऊपर या नीचे जाता है, तो डिवाइस इसे स्थिर कर देता है।

Photo By Google

यदि आप इसे किसी कार्यालय(Office) या कारखाने(Workshop) में स्थापित करने की सोच रहे हैं, तो आपको एक बार किसी इंजीनियर से जांच करानी चाहिए, क्योंकि केवल एक इंजीनियर(Engineer) ही विद्युत भार की जांच कर सकता है। यह डिवाइस एक इलेक्ट्रिकल मेन केबल से कनेक्ट करके काम करता है। इसलिए एक बार किसी इंजीनियर से सलाह लें।

Photo By Google

 इसे भी पढ़े-सिर्फ 12 रुपये खर्च करके AC, bulb और टीवी को अपने स्मार्टफोन से कर सकेंगे कंट्रोल! ये है तरीका

जीएलसी मैक्स पावर सेवर इलेक्ट्रिसिटी सेवर पावर

बिजली बिल(Electricity Bill) बचाता है। यह वोल्टेज को कम नहीं करता है। आपका मीटर(Meter) उसी तरह काम करेगा जैसे उसे करना चाहिए। इसे आप ऑनलाइन(Online) या ऑफलाइन(Offline) दोनों तरह से खरीद सकते हैं। फ्लिपकार्ट(Flipcart) पर इस डिवाइस की लॉन्च कीमत 1,250 रुपये बताई गई है, लेकिन डिस्काउंट(Discount) के साथ इसे 275 रुपये में खरीदा जा सकता है। पहली बार इस तरह की छूट डिवाइस पर ऑनलाइन उपलब्ध है। इसे आप घर या ऑफिस(Office) में अप्लाई कर सकते हैं।

Article By Sunil

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button