सांप की भी होती है मौसी, पढ़िए चौंकाने वाला मामला

शेर की तरह ही सांप की भी मौसी होती है,सांप की मौसी कहने के पीछे कोई वैज्ञानिक पहल नहीं है

क्या आप जानते हैं कि शेर की मौत किसे कहा जाता है नहीं तो चलिए इस सवाल का जवाब हम आपको देते हैं बिल्ली को शेर की मौसी कहा जाता है यूं तो उसके पीछे कोई वैज्ञानिक कारण नहीं मगर कुछ काल्पनिक कहानियां हैं जो बिल्ली को शेर मौसी कहने का प्रचलन बया करती है।कहानी में शेर अपने नवजात बच्चे को बिल्ली के पास हुनर सिखाने के लिए भेजते बिल्ली सारे गुण सिखाती लेकिन बस पेड़ पर चढ़ने का गुण नहीं सिखाती थी और इसी तरह शेर से बिल्ली की जान भी बच जाती इसलिए बिल्ली को चालाक मौसी कहते हैं

मगर क्या आप जानते हैं कि शेर की तरह ही सांप की भी मौसी होती है जी हां आपने सही पढ़ा है सांप की भी मौसी होती है हम बात कर रहे हैं सांप जैसे ही दिखने वाले एक जीव बभनी की अंग्रेजी में स्किंक के नाम से फेमस यह जीव सरीसृप यानी रेप्टाइल होते हैं जैसे बिल्लियों को शेर की मौसी कहे जाने के पीछे कोई वैज्ञानिक कारण नहीं है वैसे ही बभनी को भी सांप की मौसी कहने के पीछे कोई वैज्ञानिक पहल नहीं है ऐसा इन्हें सिर्फ सांपों जैसे लुक के चलते कहा जाता है

दिखने में यह सांप और छिपकली की तरह होते हैं मगर इनके पास छोटे पैर भी होते हैं जो सांपों के पास नहीं है यही एक चीज़ इन्हें सांपों की मौसी का दर्जा देती है इनकी चमड़ी सांपों की तुलना में काफी चमकीली और सॉफ्ट होती है बभनी मैदानों घरों में आसानी से दिख जाती है मगर यह किसी को नुकसान नहीं पहुंचाती आपको बता दें कि यह जीव सांपों की तरह जहरीला नहीं होता और काफी शर्मिला होता है इसलिए छिपकलियों के मुकाबले इन्हें छुपकर रहना पसंद है।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button