भारत का वह किला जहां दिन में भी जाने से डरते हैं लोग, साधु ने दिया था भयंकर श्राप

भारत The fort of where people are afraid

भारत में कई ऐसी जगह हैं जहां लोग जाने से डरते हैं (Hunted Places in the World)। इन जगहों को भूतिया घोषित कर दिया गया है और लोगों का दावा है कि यहां भूत रहते हैं।

भारत में कई ऐसी जगहें भी हैं जहां रहस्यमयी घटनाओं के होने का दावा किया जाता है। आज हम आपको एक ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं जो भारत की सबसे डरावनी जगह मानी जाती है।

अलवर, राजस्थान में भानगढ़ किला भारत में सबसे प्रेतवाधित किले के रूप में जाना जाता है। दिन में भी लोग इस किले के अंदर जाने से डरते हैं। आपको बता दें कि भानगढ़ किले का निर्माण आमेर के कछवाहा राजा भगवंत सिंह ने करवाया था।

उन्होंने इस किले का निर्माण 1573 में अपने सबसे छोटे बेटे माधो सिंह के लिए करवाया था। माधो सिंह के भाई मान सिंह थे, जो मुगल सम्राट अकबर के सेनापति थे।

संजय टाइगर रिजर्व सीधी में नन्हें शावकों की अठखेलियां बनी आकर्षण का केंद्र

लोगों ने किए अजीबोगरीब दावे
हालाँकि यह एक बहुत ही सुंदर महल है और आप इसे देखने के बाद इसकी सुंदरता की प्रशंसा नहीं कर सकते, यह स्थान आपको एक अद्भुत अनुभव दे सकता है। यहां जाने वाले लोगों का दावा है कि उन्हें लगता है कि कोई उनका पीछा कर रहा है।

इतना ही नहीं, यहां पहुंचने के बाद कई लोगों के मन में बहुत दुख और चिंता रहती है शाम होते ही किले में जाना मना है। (ट्विटर / सेंट लॉस्ट टेंपल 7)
शाम के बाद किले में जाना मना ह

भारत का वह किला जहां दिन में भी जाने से डरते हैं

जहां लोग दिन में भी किले के अंदर जाने से डरते हैं, वहीं शाम को किले में जाना पूरी तरह से प्रतिबंधित है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने कई जगहों पर लोगों को शाम को किले में प्रवेश नहीं करने की चेतावनी देते हुए बोर्ड लगा दिए हैं।

किले के आसपास रहने वाले ग्रामीणों का दावा है कि जो लोग रात में किले में प्रवेश करते हैं, वे कभी वापस नहीं आते। लोगों के मुताबिक किले में भूत-प्रेत घूमते हैं, जो वहां जाने वालों को मारते हैं

संन्यासी ने दिया था श्राप
ऐसा माना जाता है कि किले में एक साधु की आत्मा है जिसने किले को श्राप दिया था। यहां गुरु बालू नाथ नाम का एक साधु तपस्या किया करता था। तब राजा ने यहां आकर उसे जाने के लिए कहा क्योंकि वह यहां एक किला बनाना चाहता था।

MP का अनोखा गांव जहां लगती है सांपों की अदालत, सांप खुद बताते हैं क्यों डस लिया

साधु ने कहा कि वह जमीन पर एक किला बना सकता है, लेकिन किले की छाया उसकी झोंपड़ी पर नहीं पड़नी चाहिए। राजा ने आश्वासन दिया कि ऐसा नहीं होगा लेकिन ऐसा हुआ। तब साधु ने किले और आसपास के गांवों को श्राप दे दिया।

तब से बहुत कम लोग यहां बसे हैं। किले के आसपास के सभी घरों में छत नहीं है। यही कारण है कि लोग इसे एक अभिशाप समझते हैं। ऐसा माना जाता है कि छत पर छत को कोई भी नहीं ढाल सकता।

यह दावा किया जाता है कि जिन लोगों ने पहले मलबे पर छत बनाने की कोशिश की थी, वे सभी मर चुके हैं।

डेस्क रिपोर्ट

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button