ऊंट के मुंह में जिंदा जहरीला सांप क्यों डाला जाता है ! वजह पढ़ के उड़ जाएंगे होश

ऊंट Why is a poisonous snake put alive

‘डेजर्ट शिप’ नाम के ऊंट से जुड़ी कई दिलचस्प जानकारियां हैं। ऐसी गर्म रेत कई दिनों तक बिना पानी के रह सकती है। इसके अलावा ऊंट का दूध इंसानों के लिए बहुत ही पौष्टिक माना जाता है

वह एक शाकाहारी जानवर हैं, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि सांपों को ऊंटों को खिलाया जाता है और वे आज भी जिंदा हैं। इस प्रश्न का उत्तर आपको इस लेख में मिलेगा।( ऊंट के मुंह )ऊंटों को जीवित सांपों को खिलाया जाता है

ऐसा माना जाता है कि ऊंटों का उपयोग अरब, अफ्रीकी और अन्य रेगिस्तानी इलाकों में किया जाता है जहां उनका उपयोग और पालन किया जाता है। एक अजीब बात हुई है।

दरअसल कहा जाता है कि यहां अक्सर ऊंटों को जिंदा ऊंट के मुंह सांप खिलाए जाते हैं। ऐसा क्यों किया जाता है, इसके पीछे एक बहुत ही अजीब बात कही गई है।

दरअसल कहा जाता है  को कभी-कभी एक अजीब सी बीमारी हो जाती है, जिसके कारण वे पानी पीना और खाना खाना बंद कर देते हैं। वहीं  शरीर भी इस बीमारी से कांपने लगता है।

ऊंट के मुंह में जिंदा जहरीला सांप क्यों डाला जाता है !

इस रोग को दूर करने के लिए जहरीले सांपों का प्रयोग किया जाता है। जहरीले सांप को उठाकर  ऊंट के मुंह में दिया जाता है और साथ ही पानी डाला जाता है ताकि सांप ऊंट के पेट में प्रवेश कर जाए। विष का प्रभाव कम होने से ऊंट बेहतर हो जाता है।

जहर का असर खत्म होते ही ऊंट फिर से खाने-पीने लगा। हालांकि, यह वैज्ञानिक रूप से कितना सटीक है, इसका कोई निश्चित प्रमाण नहीं है। साथ ही, इसका कोई निश्चित प्रमाण नहीं है कि क्या इसका उपयोग वास्तव में ऊंटों के इलाज के लिए किया जाता है।

बीमारी अल-हिन नाम की एक वेबसाइट, फिर एक वेबसाइट कहती है कि ऊंट के खून बहने के इलाज के लिए प्रक्रिया का उपयोग किया जाता है। हालांकि, सटीक जानकारी और सबूतों के अभाव में इस बारे में कुछ भी सही कहना संभव नहीं है।

Horoscope : तुला राशि – अधिक लालच करने से बचे, नहीं तो नुकसान हो सकता है, पढ़िए आज का राशिफल

हालांकि यह वीडियो सिर् बीमारी के इलाज के लिए बनाया जा रहा है या नहीं इस बारे में कोई सटीक जानकारी नहीं मिल पाई है।

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button