सतना

अफवाह निकली मंडी सचिव के क्वॉरेंटाइन होने की खबर, काम पर है मंडी सचिव

सतना : कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए जहां एक और प्रशासनिक अमला दिन-रात जुटा हुआ है वहीं दूसरी ओर कुछ शरारती तत्व सोशल मीडिया में अफवाह फैलाने का काम कर रहे हैं ऐसा ही एक मामला शनिवार को उस समय सामने आया जब कृषि उपज मंडी सतना के सचिव राजेश गोयल के क्वॉरेंटाइन होने की खबर सोशल मीडिया में वायरल हो गई जबकि उस समय मंडी सचिव अपने कार्यालय में उपस्थित थे जिसके चलते मंडी कार्यालय में हड़कंप की स्थिति निर्मित हो गई आनन-फानन में मामले की तफ्तीश की गई तो पता चला की मंडी सचिव के घर के बाहर जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा चस्पा किया गया नोटिस पूरी तरह से फर्जी है और मंडी सचिव के क्वॉरेंटाइन के जाने की मियाद पहले ही पूरी हो चुकी है

IMG-20210305-WA0003
20210615_185746_0000_640x360

मंडी सचिव के घर के बाहर लगा हुआ यह पोस्टर जिसमें साफ तौर पर लिखा हुआ है कि 8 अप्रैल से 6 मई तक के लिए यह घर स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में है इधर घर के बाहर नोटिस लगा हुआ था जबकि उसी समय मंडी सचिव अपने कार्यालय में उपस्थित थे यह खबर थोड़ी ही देर में वायरल हो गई जिसे लेकर प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया हालांकि इस पूरे मामले की जानकारी लेने के बाद एसडीएम पीएस त्रिपाठी ने घर के बाहर चस्पा नोटिस को फर्जी करार दे दिया है

जिला प्रशासन भले ही इस घटनाक्रम को फर्जी करार दे रहा हो और इसे शरारती तत्व द्वारा फैलाई जा रही अफवाह बता रहा हो लेकिन मंडी सचिव के घर के बाहर चस्पा नोटिस को यदि गौर से देखा जाए तो आसानी से पता चलता है की नोटिस स्वास्थ्य विभाग द्वारा ही लगाई गई है , तो फिर सबसे बड़ा सवाल ये है की आखिर इतनी बड़ी लापरवाही कैसे हो गई। इसकी सच्चाई यह है कि कोरोना की रोकथाम में जुटे विभागों के बीच आपसी तालमेल ना होने की वजह से इस तरह की गलतियां सामने आ रही हैं जिसे छिपाने के लिए प्रशासन शरारती तत्वों पर आरोप मढ़ने में लगा हुआ है।

यह भी पढ़े :

AAD

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here