मध्यप्रदेश

कोरोना का खौफ ! 50 डाक्टरों ने दिया स्तीफा

SATNANEWS.NET

मध्यप्रदेश में एक तरफ जहां कोरोनावायरस से न सिर्फ मरने वालों का आंकड़ा बढ़ रहा है बल्कि संक्रमित लोगों की संख्या भी बढ़ रही है ऐसे में सबसे ज्यादा आवश्यक मेडिकल सुविधाएं हैं लेकिन डॉक्टरों के सामने मर रहे मरीजों के साथ आज ही डॉक्टर की मौत के बाद कुछ डॉक्टर के हौसले कमजोर पड़ने लगे हालात यह हो गए हैं कि अब डाक्टर नौकरी छोड़ने की सोच रहे हैं और न सिर्फ सोच रहे हैं बल्कि ग्वालियर के एक गजरा राजा मेडिकल कॉलेज के 50 डॉक्टर ने अपना इस्तीफा दे दिया

IMG-20210305-WA0003
20210615_185746_0000_640x360

कोरोना संक्रमण मरीजों की बढ़ती संख्या, मेडिकल एक्यूमेंट की कमी और लगातार डाक्टर पर हुए हमलों ने अभद्रता ने डॉक्टर के दिमाग में असर छोड़ा है इसी का उदाहरण देखने को मिला ग्वालियर के गजरा राजा मेडिकल कॉलेज में जहा के 50 डॉक्टर ने इस्तीफा दे दिया है असल में इन डॉक्टरों की नियुक्ति कोरोना बीमारी से संभावित खतरे को लेकर की गई थी प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस कर चुके डॉक्टरों को 3 महीने के लिए अस्थाई तौर पर रखने का आदेश निकाला गया था जिस आदेश के बाद गजरा राजा मेडिकल कॉलेज में पिछले सप्ताह 84 डॉक्टर की नियुक्ति की थी इन्हें मेडिकल ऑफिसर बनाकर अलग-अलग विभागों में पदस्थ किया गया था और इनकी नियुक्ति 3 महीने के लिए अस्थाई तौर पर की गई थी सभी डाक्टर काम भी शुरू किया लेकिन 84 में से 50 डॉक्टरों ने इस्तीफा देकर सबको चौंका दिया हालांकि इस मामले में कॉलेज प्रबंधन ने इसकी सूचना चिकित्सा शिक्षा विभाग को दी है

जीआरएमसी के पीआरओ का दावा- इस्तीफों से स्वास्थ सेवाओं मे कोई असर नहीं
गजराराजा मेडिकल कॉलेज के पीआरओ डॉ. केपी रंजन ने बताया कि 3 मार्च को कुल 114 जूनियर डॉक्टरों को तीन महीने के लिए संविदा नियुक्ति दी गई थी. इनमें 92 डॉक्टर्स ने ज्वाइन किया था,. आठ अप्रैल तक करीब 50 डॉक्टर्स ने डीन को इस्तीफे सौंपे. इनकी सेवा शर्तों के हिसाब से डीन ने इस्तीफे मंजूर किए थे, लेकिन आठ अप्रैल को एस्मा लगने के बाद करीब 25 से 30 इस्तीफे नामंजूद कर दिए गए हैं.

AAD

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here