सीधी-सिंगरौली

कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक पहुंचे बार्डर

SINGRAULI : कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद दिख रहा है जहां कल से ही जिला प्रशासन के निर्देश पर सिंगरौली से लगी सारी सीमाओं को सील कर कर दिया गया है, वही जिले में प्रवेश कर रहे सभी लोगों को आगामी दिनों तक शेल्टर होम में रखने की व्यवस्था की गई है शासन के आदेशों का पालन कराने के लिए विभाग के अधिकारी लगातार इसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं मोरवा थाना क्षेत्र में भी अनुविभागीय अधिकारी नीरज नामदेव एवं निरीक्षक नागेंद्र प्रताप सिंह द्वारा खनहना बॉर्डर का भ्रमण कर स्थिति का जायजा लिया गया। जिसके बाद मंगलवार दोपहर पहुंचे कलेक्टर केवीएस चौधरी एवं सिंगरौली पुलिस अधीक्षक टी के विद्यार्थी ने बॉर्डर क्षेत्र का निरीक्षण कर लॉक डाउन का गंभीरता से पालन करने का निर्देश दिया। इस दौरान आवश्यक सेवाएं छोड़ कोई भी वाहन को जिले में प्रवेश ना देने के लिए निर्देशित कर, बाहर से आए लोगों को शेल्टर होम में रुकवाने, उनके खाने पीने एवं उनकी जांच की व्यवस्था सुनिश्चित कराने को कहा। गौरतलब है कि मोरवा क्षेत्र में जिला प्रशासन द्वारा तीन शेल्टर होम बनाए गए हैं। जिसमें करीब आधा सैकड़ा लोगों को रखा गया है। वहीं कल से ही मोरवा से लगी अंतर्राज्यीय सीमा पर रुके करीब एक सैकड़ा लोगों को उनके गंतव्य स्थान पर पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है।
लॉक डाउन में गरीब तबके के साथ बॉर्डर पर फंसे लोगों के लिए निरंतर क्षेत्र के समाजसेवी एवं संपन्न परिवारों के लोग सामने आ रहे हैं। उनके द्वारा इन लोगों के लिए दोनों समय के भोजन की व्यवस्था कराई जा रही है। एक ओर जहां रेड क्रॉस सोसाइटी की ओर से से लोगों को भोजन के पैकेट उपलब्ध कराए गएम वहीं मोरवा निवासी धीरेंद्र सिंह द्वारा भोजन बनवाकर गरीब एवं बॉर्डर पर फंसे करीब 500 लोगों को प्रशासन की मदद से भोजन उपलब्ध कराया गया। इस पुनीत कार्य में मोरवा थाने के पुलिस बल के साथ मनीष अग्रवाल, स्थानीय निवासी चुन्नू शर्मा, पार्षद परमेश्वर पटेल एवं नगर निगम का अमला मौजूद रहा।

IMG-20210305-WA0003
20210615_185746_0000_640x360
AAD

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here