BREAKING NEWSदेश

कैसे फैलता है हंता वायरस

सीडीसी की रिपोर्ट के मुताबिक़, हंता वायरस चूहों से फैलता है.

IMG-20210305-WA0003
20210615_185746_0000_640x360

अगर कोई इंसान चूहों के मल-मूत्र या लार को छूने के बाद अपने चेहरे पर हाथ लगाता है

प्रतिकातम तस्वीर
प्रतिकातम तस्वीर

तो हंता संक्रमित होने की आशंका बढ़ जाती है. हालांकि आमतौर पर हंता वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं जाता है. हंता के संक्रमण का पता लगने में एक से आठ हफ्तों का वक़्त लग सकता है. अगर कोई व्यक्ति हंता वायरस से संक्रमित है तो उसे बुखार, दर्द, सर्दी, बदन दर्द, उल्टी जैसी समस्या हो सकती हैं. हंता संक्रमित व्यक्ति की हालत बिगड़ने पर फेफड़ों में पानी भरने और सांस लेने में तकलीफ़ भी हो सकती है.जनवरी 2019 में हंता से संक्रमित नौ लोगों की पेटागोनिया में मौत हो गई थी. इसके बाद पर्यटकों को आगाह भी किया गया था.तब के एक अनुमान के मुताबिक़, हंता वायरस से संक्रमित लोगों के 60 मामले सामने आए थे, जिनमें 50 को क्वारंटीन रखा गया था CDC की मानें तो हंता वायरस में मृत्युदर 38 फ़ीसदी होती है और इस बीमारी का भी कोई ‘स्पेसिफिक ट्रीटमेंट’ नहीं है भारत जैसे देशो में इसे बड़ी चिंता भरी दृस्टि से देखा जा रहा है

 

भारत की कोरोना से जारी है जंग वीडियो देखे

AAD

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here