मध्यप्रदेश

शिवराज के राज में मंत्री कौन ?

भोपाल – बीते तीन सप्ताह से जारी सियासी उठापटक का आज पटाछेप होने जा रहा है भाजपा के विधायक दल ने प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह को विधायक दल का नेता चुन लिया और आज 9 बजे सादे समारोह के दौरान राजभवन में सपथ लेकर चौथी बार मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री बनेगे

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003

अब मंत्री पद की दौड़

विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद
विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद

सियासी घमासान के दौरान नेताओ और विधायकों की कैसी भागमभाग हुई थी ये तो सब को याद है अब इस भागमभाग के पटाछेप के बाद मंत्री कौन कौन बनेगा इसकी दौड़ भी सुरु होगी क्योकि इसके लिए भी लड़ाई तगड़ी होने वाली है वजह वो 22 विधायक है जिन्होंने अपनी विधायकी गवा कर प्रदेश में वापस कमल खिलाया है और सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया जिन्होंने कांग्रेस का किला तास के पत्तो की तरह बिखेर दिया उनके लोगो को भी खुस रखना पार्टी की मज़बूरी होगी सिंधिया समर्थक 22 विधायक में से छह कमलनाथ सरकार की कैबिनेट में मंत्री थे इनका इस बार भी मंत्री बनना तय है इनमें इमरती देवी, प्रद्युमन सिंह तोमर, महेंद्र सिसोदिया, गोविंद राजपूत, तुलसी सिलावट, प्रभु राम चौधरी, इसके अलावा बिसाहू लाल सिंह, इंदर सिंह, कंसाना हरदीप सिंह डंग और राज्यवर्धन सिंह मंत्री बनने की शर्त पर ही भाजपा में शामिल हुए हैं

भाजपा की भी लम्बी लिस्ट

इसके अलावा अगर भाजपा की बात करें तो यहां लिस्ट और भी लंबी है मंत्री बनने की लिस्ट में नरोत्तम मिश्रा, राजेंद्र शुक्ला, अरविंद भदौरिया, यशोदा राजे सिंधिया, प्रदीप लारिया, शैलेंद्र जैन, भूपेंद्र सिंह, गोपाल भार्गव, बृजेंद्र प्रताप सिंह, जुगल किशोर बागरी, नारायण त्रिपाठी, गिरीश गौतम, केदारनाथ शुक्ला, संजय पाठक, अजय विश्नोई, कमल पटेल, सीताशरण शर्मा, सुरेंद्र पटवा, करण सिंह, गायत्री राजे पवार, नीना वर्मा, रमेश मेंदोला, महेंद्र हार्डिया, मालिनी गौड़, पारस चंद, मोहन यादव, यशपाल सिसोदिया, जगदीश देवड़ा और ओमप्रकाश सकलेचा जैसे नाम है इसके अलावा बसपा के संजू कुशवाहा और रामबाई साथ ही सपा के राजेश शुक्ला भी मंत्री बनने के लिए ही बीजेपी में शामिल हुए हैं इस लिहाज से कहा जा सकता है कि यहां असंतोष बनना स्वभाविक है अभी इनमें निर्दलीय विधायकों के नाम शामिल नहीं हैं

विंध्य का क्या होगा

प्रदेश के विंध्य से जिस तरह कमल मजबूत हुआ है उससे यहाँ के नेताओ समेत आम जनता को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए चुरहट से शरतेंदु ने जिसतरह से कांग्रेस के दिग्गज नेता को हराया उसने साफ़ कर दिया की यहाँ कमल की लहर तेज रही इसके अलावा सिंगरौली से रामलल्लू वैश्य काफी सीनियर विधायक है रीवा और सतना जिले का मैहर भी मंत्रियो की दौड़ में दौड़ने वाले है हालांकि ये अभी भविष्य में है जब तक कोरोना है तब तक सायद ये दौड़ गुपचुप ही रहेगी

AAD

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here