सतना

प्रसूताओं के बेड में पुरुषो का कब्जा

सतना जिला अस्पताल की व्यवस्था पर सवाल उठ रहे आज हम आपको दिखाते है जिला अस्पताल की वास्तविक हकीकत, सबसे संबेदनशील माने जाने वाले प्रसूति विभाग में पुरुषों के आने जाने पर प्रतिबंध है बकायदा नोटिस बोर्ड लगा हुया है इसके बाबजूद यहां पुरुषो की भीड़ है दिन तो ठीक रात में भी महिला बार्ड में पुरुष खर्राटे मारते है जिन्हें रोकने टोकने वाला नही भीड़ की बजह से हर जगह गंदगी फैली है ऐसे में जच्चा बच्चा को संक्रमण का सदैव खतरा बना रहता है ये है सतना का जिला अस्पताल और ये है प्रसूति विभाग ,इस विभाग में पुरुषों के प्रवेश पर प्रतिबंध है मगर तस्वीरे देखिए एक मरीज के साथ कई लोग मौजूद है बाकायदा प्रशव पीडित महिला और प्रसूता के बेड पर इनका कब्जा है पूरे बेड में ये आराम फरमा रहे और महिलाये एक कोने में पड़ी हुई है बेड तो छोड़िए बार्ड के फर्श का यही हाल है हर जगह महिला से ज्यादा पुरुष नजर आ रहे भीड़ भाड़ की बजह से गंदगी का आलम है जिससे प्रसूता के साथ उसके नवजात बच्चे में संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता है । वार्ड में सेवाएं देने वाली नर्से भी इस बात से परेसान रहती है वही अस्पताल प्रवंधन भी स्वीकार कर रहा कि प्रसूति बार्ड में पुरुषों का अनाधिकृत प्रवेश रहता है जिसमे संक्रमण भी फैल सकता है अस्पताल प्रशासक की माने तो अस्पताल में सिर्फ 12 सिकोर्टी गार्ड है जिन्हें तीन शिप्ट में लगाया जाता है सुरक्षा कर्मियो की कमी के साथ साथ सख्ती करने पर परिजन हंगामा करते है ऐसे में जिला अस्पताल की व्यवस्था सुचारू रूप से संचालित नही हो पाती हालांकि लोगो को जागरूक करने के प्रयास किये जाते है

IMG-20210305-WA0003
20210615_185746_0000_640x360
AAD

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here