मध्यप्रदेश

बोफोर्स के देशी संस्करण धनुष का जबलपुर में परीक्षण

जबलपुर (JABALAPUR)| जबलपुर गन कैरिज फैक्ट्री में तैयार की गई धनुष (DHANUSH) तोप और सारंग (SARANAG) गन (GUN) का शुक्रवार लॉन्ग प्रूफ रेंज खमारिया में एक साथ परीक्षण किया गया। यह पहला मौका है जब जबलपुर में एक साथ बैरल और गन का परीक्षण किया जा रहा है। धनुष तोप की मारक क्षमता 40 और सारंग तोप की मारक क्षमता 39 किलोमीटर है।

IMG-20210305-WA0003
20210615_185746_0000_640x360

बोफोर्स से ज्यादा ताकतवर है धनुष
धनुष तोप बोफोर्स से भी ज़्यादा ताकतवर है। इसकी मारक क्षमता 40 किमी तक है। जबकि बोफोर्स तोप की मारक क्षमता सिर्फ 32 किमी है। धनुष तोपों को बोफोर्स का स्वदेशी संस्करण कहा जाता है। ये तोपें जबलपुर की गन कैरेज फैक्ट्री में तैयार की गयी हैं। GCF को कुल 114 तोपों का ऑर्डर मिला है। भारतीय सेना को अब तक 6 धनुष तोप और 8 सारंग गन सौंपी जा चुकी है।

पहले पोखरण और बालासोर में होता था परीक्षण
धनुष तोप सेना के बेड़े में शामिल हो चुकी है। इस तोप का राजस्थान के पोखरण और उड़ीसा के बालासोर सहित अन्य स्थानों पर पहले परीक्षण किया गया था। जबलपुर में ही बनी धनुष तोप का जबलपुर में ही परीक्षण पहली बार हुआ है। धनुष तोप का जबलपुर में ही उत्पादन और परीक्षण होने से अनुमान है कि सालाना 100 करोड़ से अधिक की बचत होगी।

AAD

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here