मध्यप्रदेशसतना

ये है सतना जिले का बेल्लारी ! यहाँ चलता है बाबा का राज ?

अबैध खनन को लेकर कर्नाटक के बेल्लारी का नाम से बदनाम हो चुका परस्मानिया पठार एक बार फिर सुर्खियों में है ।यहाँ बड़े पैमाने पर एक बार फिर अबैध खनन सुरू हो चुका ।जो पिछले वर्ष की तुलना में कई गुना ज्यादा था ।एक नही वल्कि एक सैकड़ा से ज्यादा खदाने संचालित थी ।वन औऱ राजस्व भूमि पर खनन चल रहा और जिम्मेदार विभाग जानकर अंजान बना हुया था ।इस अबैध खनन की मीडिया की सुर्खियां वनने के बाद सतना जिला प्रशासन हरकत में आया और अब जांच पड़ताल के बाद अबैध खनन करने वाले 6 लोगो पर प्रकरण दर्ज कर एक करोड़ 30 लाख का जुर्माना लगाया है ।

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003

सतना जिले का बेल्लारी के नाम से जाने जाने वाला परस्मानिया पठार 2012 में देश की मीडिया की सुर्खियां बना था और तात्कालिक भाजपा सरकार के लिए गले की फांस ,,भोपाल से आये अपर सचिव वन ने गोपनीय जांच की और यहां के अबैध खनन को लेकर राज्यसरकार को जांच रिपोर्ट सौंपी ,जांच रिपोर्ट में सतना के परस्मानिया पठार को कर्नाटक के वेल्लरी से ज्यादा बड़ा अबैध खनन कोड किया और तत्कालीन खनिज मंत्री राजेन्द्र शुक्ला और पीडब्लूडी मंत्री रहे नागेंद्र सिंह को खनन माफिया को अप्रत्यक्ष रूप से संरक्षण देने का भी उल्लेख किया ।विपक्ष ने इस अबैध खनन को मुद्दा बनाकर सदन में अविश्वास प्रस्ताव तक लाया ।सरकार बैक फुट पर आ गई औऱ जांच के बाद परस्मानिया पठार 32 खदाने को स्थायी रूप से निरस्त कर दिया गया था । चार साल बाद दो खदाने स्वीकृत हुई लेकिन सरकार बदलते ही माफियाओ ने पाला बदला और अब एक सैकड़ा से ज्यादा अबैध खदाने खोल ली ,वन और राजस्व भूमि पर दिन दहाड़े खनन होता रहा और जिम्मेदार विभाग आँख बंद कर सोता रहा ।परस्मानिया पठार में फर्सी पटिया का अबैध खनन मीडिया की फिर सुर्खिया बना जिसके बाद जिला प्रशासन हरकत में आया ,जिला कलेक्टर ने खनिज ,वन,और राजस्व विभाग की संयुक्त टीम गठित की और पूरे मामले की जांच पड़ताल कराई ।खनिज विभाग ने इस मामले सिर्फ तीन जगहों पर कार्यबाही की और 6 लोगो पर एक करोड़ 30 लाख का अर्थ दंड अधिरोपित किया है ,सखौहा एवं बड़गड़ी में अबैध खनन करने वाले बुद्बु कोल, शरीफ खान पर 11लाख 81 हजार , ददोली सिंह ,राजभान सिंह पर 30 लाख 49हजार,जयराम सिंह एवं विनोद गुप्ता पर 90लाख 70 हजार का जुर्माना लगाया है । ये सभी वो अधिवासी है जिनकी जमीन पर माफिया खनन कर रहे थे ,लेकिन विभाग ने माफिया पर कार्यबाही न कर गरीब आदिवासियों पर जुर्माना लगाया है। इस मामले पर खनिज विभाग कार्यबाही पर गोल मोल जबाब दे रहे। उनकी मॉने तो माफियाओ पर सबूत न मिलने से भूस्वामी पर प्रकरण दर्ज किया गया और इस मामले की अभी भी जांच की जा रही वही स्वीकृत दोनों खदानों की ईटीपी ब्लाक कर दी गई है और उसका भौतिक सत्यापन किया जाएगा ।

AAD

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here