बच्चों के साथ माता-पिता न करें बेड शेयर, हो सकता है ये नुकसान

हर माता पिता ने आपके बच्चों का नाम अलग रखा। कई भविष्यवाणियां अपने साथ आने वाले बच्चों द्वारा सुरक्षित और देखभाल महसूस करती हैं। लेकिन कई बार वेशभूषा और बच्चों के लिए हानिकारक हो सकती है। एक अवस्था बच्चों के माता-पिता के बिस्तर साझा न करने के साथ हो सकती है यदि आप ऐसा करते हैं तो क्या नुकसान है?

अमेरिकन एक्ट्रेस एलिसिया सिल्वरस्टोन टिप्स के साथ आपकी पेरेंटिंग स्टाइल को एक्सेसराइज करती हैं। हाल ही में एलिसिया सिल्वरस्टोन ने ये खुलाशा किया है. वह अपने 11 साल को बेटा वियर के साथ सोती थी. ऐलिस सिल्वरस्टोन ने बताया की वियर और मैं अभी तक साथ सोती है.

children के साथ माता-पिता न करें बेड शेयर, हो सकता है ये नुकसान

photo by googleएलिसिया सिल्वरस्टन के के माने तो वो नेचर को फॉलो करती रही. इस बातचीत में एलिसिया सिल्वरस्टोन को इस बयान पर सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रोल किया जा रहा है. एक यूजर ने एलिसिया सिल्वरस्टोन के बयान पर कमैंट्स करते हुए एक यूजर ने लिखा. वह सवतंत्रत होकर कैसे रहना सिख पायेगा? आप उसकी मदद नहीं नुकशान कर रही है.

https://www.instagram.com/aliciasilverstone/?utm_source=ig_embed&ig_rid=0af62b34-da00-4d2f-bde5-14f998e6db09

children के साथ माता-पिता न करें बेड शेयर, हो सकता है ये नुकसान
photo by google

सोशल मीडिया पर जहा एक तरफ लोग एलिसिया सिल्वरस्टोन का मजाक उड़ा रहे है वाह कुछ लोग यैसे भी जिनकी नजर मे याह बुरा नहीं एलिसिया सिल्वरस्टोन के इस चॉइस पर एक यूजर ने ट्वीट किया है. अभी समाज मे बहुत सारे अबारे लोग घूम रहे है…..शयाद माता पिता थोड़ा और प्यार इसका जबाब हो सकता है. ऐसे मे सबाल उठता है की बच्चों के साथ एक बेड पर सोना सही होता है? किस उर्म तक माता पिता को अपने बच्चों के साथ सोना चाहिए? यैसे मे हम जानते है क्या कहना है वाल चकित्सका और सिकॉलिसस्ट का. न्यूयोर्क स्थित बाल चिकित्सा डॉ रैबिका फिक्स ने कहा मे माता पिता को हमेसा यही कहता हु की बच्चे के साथ बेड पर सोना उनका निजी फैसला है.यह कोई मेडिकल निर्णय नहीं है 1 बेबसाइट से वात करते हुए फिक्स ने कहा माता पिता को कभी भी एक साल के कम उम्र के बच्चे के साथ बैड शेयर नहीं करना चाहिये..

बच्चों के साथ माता-पिता न करें बेड शेयर, हो सकता है ये नुकसान
Photo By Google

क्योंकि इससे एसआईडीएस और दम घुटने का खतरा बढ़ जाता है। वही फिक्स को कहना है. हर किसी को नींद से सबंदित अलग जरुरत के कारण सोने से कई बार आपके बच्चे को सही नींद आने मे दिकत को सामना करना पर सकता है. अगर आप अपने बच्चे कई सो रहे है.तो इस वात को ध्यान रखे की उसे दिन भर अच्छी तरह से आराम मिले.

अगर ऐसा नहीं है तो आपके पास सोने के अलावा और भी कई विकल्प हैं.जैसे आप कमरे में एक अतिरिक्त बिस्तर रख सकते हैं अगर आप चाहते हैं कि बच्चा उसमें सोए. ताकि आपका बच्चा बिस्तर पर आराम से सो सके.और नींद के दौरान बच्चे को किसी भी तरह की परेशानी न हो. आप चाहें तो दूसरे कमरे में सो सकते हैं. वही बाल समाजशास्त्री एलिजाबेथ मैथिस ने कहा कि बच्चे के साथ बिस्तर साझा करना अच्छा है, खासकर जब माता-पिता अलग रह रहे हों। मैथिस का कहना है कि जिन लोगों के साथ आप सुरक्षित महसूस करते हैं। उनके आसपास रहना आपको अच्छा महसूस कराता है।

इस स्टेज पर बच्चों के साथ सोना कर देना चाहिए बंद

यह जानना काफ़ी जरुरी है की किस स्टेज पर आपको अपने बच्चे के साथ सोना बंद कर देना चाहिए. जब आपके बच्चे के शरीर मे बदलाव आने लगे तब उनके साथ सोना बंद कर देना चाहिए.इससे प्रि-प्रयोबाटी कहा जाता है प्रयोबाटी या प्रि-प्रयोबार्टी उस समय को कहा जाता है. ज़ब आपकी बच्चे यौन रौप मे परिपकक्ब होने लगता है. इस दौरान लडकियो मे बेस्ट विकास और दाढ़ी मुछे बढ़ना, पराईवाइट पार्ट के आकर मे बृद्धि जायदा शरीर मे परिबर्तन होता है. फिक्स ने कहा, प्रि-प्रयोबीटी एक वह समय होता है. जब आपको बच्चे के साथ सोना बंद कर देना चाहिए.

इसे भी पढ़े-शिक्षक को वायरल वीडियो मामले में मिली क्लीन चिट, जांच पर उठ रहे सवाल

मैथिस ने फिक्स के वात को सपोर्ट करते हुए कहा प्रयोबाटी है वह समय होता है की जब आपको बेड पर अलग अलग सोना शुरू कर देना चाहिए.प्रयोबटी फैज करने को उम्र लड़कीओ मे 11 साल , लडको मे 12 साल होता है. हलाकि लडकियो मे 8 साल से 13 साल के बिच परियोबटी शुरू होना आम वात है.वही लडको को प्रयोबाटी 9 साल से 14 साल के उर्म से शुरू हो जाता है. मैथिस ने कहा, प्रयोटिब के दौरान बच्चे के शरीर मे कई तरह है बदलाव होते रहते है यैसे मे जरुरी है की आप बच्चे को कुछ अकेला टाइम दे इससे वह सहज़ रहेगे. अगर आप बच्चे को एक है बेड पर सुलाते है तो इससे आपका प्राइवेसी भी प्रभाबित होती है.  हालाँकि, यह आप जरूर सुनिश्चित करें अगर अपने बच्चों को दूसरी कमरे मे या वो अलग बिस्तर पर सोये तो उसे सुरछित और सहज़ महसूस हो. जब आपको टिनेजर बच्चों की किसी बातत को लेकर परेशान हो तो आप अपने साथ सोने को कह सकते है.

Article By Sipha

सतना न्यूज डेस्क

ख़बरें पूरे विंध्य की http://satnanews.net/

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button