सतना

SATNA यहाँ लगता है गधों का मेला, लाखो में बिकते है गधे

सतना 15 नवम्बर । जिले के शहर से दूर एक बेहद अनोखा पशु मेला धर्मनगरी ‘चित्रकूट’ में लगता है यहां मंदाकनी नदी के तट पर लगने वाले इस ऐतिहासिक मेले का विशेष महत्व है इस मेले का एक और खास आकर्षण ‘गधा मेला ‘ होता है बेशक सुनकर अजीब लगे… लेकिन यह सच है इस मेले में इस बार 12 हजार अलग-अलग नस्ल के गधे लाए गए , जो विशेष आकर्षण का केंद्र बने रहे

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003

बीते सालों की बात करे तो यहाँ 2 करोड़ अधिक का कारोबार हुआ है बेशक धनतेरस व दीपावली के दौरान बाजार में मंदी रही हो और गत वर्ष की तुलना में कम कारोबार हुआ हो लेकिन चित्रकूट के गधा मेले पर मंदी का कोई असर नहीं पड़ा और चित्रकूट के गधा मेले ने गत वर्ष की तुलना में 2 करोड़ का कारोबार अधिक किया

मन्दाकिनी नदी के किनारे लगने वाले गधे मेले में गधों की कीमत पांच हजार से लेकर लाखो रूपए तक रहती है गधा व्यापारियों ने जांच परख कर इन जानवरों की खरीददारी की तीन दिनों के दौरान करीब आठ हजार गधे बिकने की उम्मीद है

इस मेले की सुरुआत औरंगजेब ने कराई थी शुरुआत
टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक इन गधों की बोली लाखों तक पहुंचती है यही वजह है कि गधा इस मेले का आकर्षण का केंद्र रहता है इस मेले में मप्र, उप्र , छत्तीसगढ़ बिहार के विभिन्न जिलों के व्यापारी और जरूरतमंद गधों की खरीद-बिक्री करने आते हैं। जहां इन गधों के कद काठी के हिसाब से उनकी बोली 5 हजार से शुरू होकर लाखों तक पहुंच जाती है।

IMG-20210124-WA0016
RED MOMENTS STUDIO

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here