FEATUREDमध्यप्रदेश

मिले धुर मेरा तुम्हारा तो बने धुर जगत सारा …

कभी बीजेपी के निशाने पर सिंधिया हुआ करते थे असल मे तब सिंधिया ना केवल राहुल गांधी के बेहद करीबी लोगो मे से एक थे बल्कि वे मध्यप्रदेश मे शिवराज के खिलाफ कांग्रेस की ओर से सी एम का संभावित चेहरा भी थे और इन्ही कुछ वजहों से तब सिंधिया भी बढचढ कर बीजेपी पर जुबानी हमले किया करते थे इस तरह से जहां शिवराज . प्रभात झा नरेंद्र सिंह तोमर और जयभान सिंह पवैया जैसे बीजेपी के बड़े नेता ब्रिटिश हुकूमत का साथ देने के कारण सिंधिया राजघराने को गद्दार ठहराने मे रत्तिभर संकोच नही करते थे तो उधर विरोधियों को मुंहतोड़ जवाब देने मे सिंधिया भी कोई कसर नही उठा रखते थे

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003

उत्तरप्रदेश की एक चुनावी सभा को संवोधित करते हुये उन्होनें मोदी और योगी की सरकार को ढोंगी सरकार तक बतला दिया था बाद मे 2018 मे सतना जिले के मैहर मे एक चुनावी सभा को एड्रेस करते हुये सिंधिया ने कहा था कि शिवराज सरकार को निर्वस्त्र करके भेजना है यहां यह बतलाते चलें कि शिवराज ने मैहर के विकास के लिये दर्जनों घोषणायें की मगर पूरी एक भी नही हुई थी

यह भी पढ़े कुकर्म के आरोपी सिकंदर के पुलिश ने खोले चौकाने वाले राज

बहरहाल इसमे कोई दो राय नही है कि 2018 के विधानसभा के चुनाव मे सिंधिया एक बड़ा फैक्टर थे वे अपनी सफ सुथरी छवि और साफगोई की वजह से वे््सी एम के तौर पर जनता की पहली पसंद भी थे

यह भी पढ़े सतना में रेप के आरोपी के खिलाफ हुआ प्रदर्शन, बीजेपी ने भी खोला मोर्चा

परंतु पूर्ण बहुमत ना मिलने की वजह से उन्हे मध्यप्रदेश का मुख्यम़ंत्री नही बनाया जा सका और निर्दलीय विधायकों को साधकर कमलनाथ सी एम की रेस मे आगे निकल गये जबकि कुर्सी की दौड़ मे पिछड़ कर सिंधिया हासिये पर चले गये थे यद्यपि उनके कई समर्थकों को मंत्रीमंडल मे जगह मिल गई थी लेकिन उनके साथ जिस तरह की वायदा खिलाफी हुई थी उसको लेकर वे नाराज तो थे मगर चुप थे

यह भी पढ़े बिजली के लिए तरसता गाँव, खंभे है पर बिजली नही

2019 के आम चुनावों मे मिली पराजय से भी वे काफी आहत थे और उम्मीद कर रहे थे कि पार्टी उन्हे राज्यसभा भेज देगी लेकिन जब दिग्ग विजय और कमलनाथ ने इस पर भी पेंच फंसा दिया तो उनके पास इसके अलावा कोई चारा नही बचा था कि वे अपने समर्थकों के साथ बीजेपी मे चले जाये अंतोगत्वा वही हुआ जिसकी स़भावना साफ नजर आ रही थी मार्च 2020 मे सिंधियां खेमा बीजेपी मे समा गया और इस तरह कमलनाथ का सियासी कुनबा सड़क पर आ गया

गद्दारी मे कोई पीछे नही
……………….
फिर शुरू एक दूसरे को गद्दार ठहराने का सिलसिला कांग्रसियों ने सिंधिया खेमे पर गद्दारी का आरोप लगाया जबकि इससे पहले शिवराज नरेन्द्र सिंह तोमर प्रभात झा और जयभान सिंह पवैया सिंधिया राज परिवार पर अंग्रेजो की मदद करने को लेकर गद्दारी का आरोप लगा चुके थे

अब गद्दार कहने वालों को आडे हाथों लिया सिंधिया ने …..

कल गद्दार कहने वालो को आड़े हाथों लेते हुये सिंधिया ने किसानो की कर्जमाफी ना करने वालो को गद्दार ठहराया रविवार को भाडेर की एक जनसभा मे जहां उन्होने कमलनाथ व दिग्गी को जनता के साथ गद्दरी करने के लिये दोषी ठहराया वहीं उन्होने शिवराज को भी यह कहकर चेताया कि जनता से किये गये वायदो को पूरा ना करने वाली सरकार को वह सड़क पर ले आयेंगे

यह भी पढ़े सिंधिया की शिवराज को दो टूक चेतावनी …थोथी घोषणाओं से बचें CM

उल्लेखनीय है कि इससे पहले सिंधिया ने शिवराज की मौजूदगी मे कहा था कि यदि शिवराज जनता से किये गये वायदो को पूरा करने मे असफल रहे तो वे इस्तीफा दे देंगें …

IMG-20210124-WA0016
RED MOMENTS STUDIO

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here