BREAKING NEWSFEATUREDसतना

कोरोना संकट- निजी अस्पतालों के साथ प्रशासन की बैठक

कोरोना उपचार के लिए शहर के बाहर बने प्रायवेट होटलों को भी लिया जा सकता है

सतना 7 अगस्त 2020। सांसद गणेश सिंह की अध्यक्षता में शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में कोरोना महामारी (कोविड-19) से जिले में बढ़ रहे मरीजों का उपचार निजी अस्पतालों में करने हेतु निजी नर्सिंग होम के संचालकों/चिकित्सकों की बैठक संपन्न हुई। बैठक में कलेक्टर अजय कटेसरिया, अनुविभागीय अधिकारी पीएस त्रिपाठी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एके अवधिया, सिविल सर्जन डॉ प्रमोद पाठक सहित निजी चिकित्सालयों के संचालक/चिकित्सक उपस्थित थे।

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003
गणेश सिंह (सांसद, सतना)

बैठक में सतना सांसद ने बताया कि जिले में कोरोना के मरीजो की संख्या में दिन-प्रतिदिन बढ़ोत्तरी हो रही है। उन्होने मरीजों के उपचार हेतु जिला चिकित्सालय के अलावा निजी चिकित्सालयों में व्यवस्था करने की आवश्यकता बताते हुए कहा कि निजी चिकित्सालयों में कोरोना की जांच हेतु उपकरणों तथा इलाज की व्यवस्था सुनिश्चित करें। कोरोना उपचार के लिए शहर के बाहर बने प्रायवेट होटलों को भी लिया जा सकता है। इनमें चिकित्सक एवं अन्य स्टाफ की ड्यूटी लगाई जाएगी। साथ ही आवश्यकतानुसार चिकित्सक एवं स्वास्थ्यकर्मियों की व्यवस्था करने के लिए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को कहा। उन्होने कोरोना के मरीजों को गुणवत्तापूर्ण भोजन, साफ-सफाई एवं स्वास्थ्य सेवायें देने के लिए कहा गया। सांसद ने कहा कि जो मरीज क्वारेंटाइन सेंटरों में नहीं रहना चाहते हैं, उनके लिए निजी चिकित्सालयों अथवा होटलों में सशुल्क रहने की व्यवस्था की जाए। सांसद ने कहा कि नगरीय संस्थायें सैनेटाइजेशन की सुदृढ़ व्यवस्था तथा उपाय करना सुनिश्चित करें।

कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में बैठक

कलेक्टर अजय कटेसरिया ने निजी चिकित्सालयों के संचालक/चिकित्सकों से कहा कि कोरोना संक्रमित मरीजों की बढ़ती हुई संख्या के मद्देनजर निजी चिकित्सालय जांच एवं उपचार की व्यवस्था करें। इसके लिए शासन की सुविधा का लाभ लिया जाए। चिकित्सक इस बीमारी के उपचार से डरे नहीं, बल्कि उपचार में सहयोग करें। उन्होने बताया कि प्रायवेट अस्पतालों में जांच के उपकरण उपलब्ध कराए जाएंगे। निजी चिकित्सालयों के संचालक/चिकित्सकों ने अपने सुझाव में कहा कि प्रायवेट अस्पतालों में कोविड केयर सेंटर बनाया जाए। इन सेंटरों में परीक्षण करने की भी व्यवस्था की जाए। पॉजिटिव मरीज पाए जाने पर कोविड सेंटर भेजे जाएं तथा निगेटिव आने वाले मरीजों को निजी चिकित्सालय में रखकर उपचार किया जा सकता है। निजी चिकित्सकों ने कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने एवं उपचार के संबंध में सुझाव दिए।

IMG-20210124-WA0016
RED MOMENTS STUDIO

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here