FEATUREDसतना

अयोध्या की तरह सजा चित्रकूट, कामतानाथ नगरी में जारी है रामोत्सव

मुख्यद्वार भगवान कामतानाथ मंदिर

भगवान श्री राम जन्मभूमि अयोध्या में आज भव्य मंदिर की आधारशिला रखी जा रही ऐसे में राम की तपोस्थली चित्रकूट को भी दुल्हन की तरह सजाया गया है ।मंदिरो में भजन कीर्तन चल रहा वही माँ मंदाकिनी में दीपदान किया जा रहा , चित्रकूट के भरत कूप के जल से पूजा अर्चना होगी तो कामदगिरि पर्वत के पत्थर की सिला पट्टिका अयोध्या में लगाई जाएगी

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003
भगवान कामतानाथ
भगवान कामतानाथ

चित्रकूट में हर मठ मंदिरो में पूजा पाठ ,भजन कीर्तन जारी है । दरअसल चित्रकूट में भगवान राम ने बनवास के 11 साल 6 माह 18 दिन काटे थे ,यही पर भरत जी ने तपस्वी राम का राज्याभिषेक कराया था और लंका विजय के बाद सबसे पहले भगवान राम चित्रकूट आकर दीपदान किया था और अयोध्या गए थे ।ऐसे में आज चित्रकूट में दीपावली जैसा ही माहौल हैं ।चित्रकूट दुल्हन की तरफ सजा हुया है

राष्ट्रीय एकता, बंधुत्व और सांस्कृतिक समागम का कार्यक्रम बने राम मंदिर का भूमि पूजन: प्रियंका गांधी

READ MORE

रामलला, चित्रकूट
रामलला, चित्रकूट

धार्मिक नगरी चित्रकूट में भी आज उत्सव मनाया जा रहा , चित्रकूट के रामपथ के हर जगहो पर भजन कीर्तन पूजा पाठ चल रहा ,कही रामधुन ,रामायण के पाठ,सुंदरकांड, तो कही हनुमान चालीसा का पाठ चल रहा, चित्रकूट में हालॉकि करोना के चलते रामभक्तों के आवाजाही पर पावंदी है लेकिन चित्रकुट में दीपावली जैसी सजावट नजर आ रही , रामघाट के साथ ही सभी मंदिरों में सजावट है । रामकी जन्म, भूमि में आज वर्सो इंतजार के बाद मंदिर की नींव रखी जा रही ऐसे में रामकी तपोभूमि में भी हर्सोल्लास दिख रहा

मंत्री रामखेलावन को मिली अहम जिम्मेदारी

READ MORE

मुख्यद्वार भगवान कामतानाथ मंदिर
मुख्यद्वार भगवान कामतानाथ मंदिर

मतयागजेंद्र नाथ शिव मंदिर के कार्यकारी अध्यक्ष प्रदीप तिवारी ने तीन दिन पूर्व ही चित्रकूट के भरत कूप का जल अयोध्या पहुचा चुके ,इसी जल का इस्तेमाल पूजा पाठ में इस्तेमाल होगा क्योंकि तपस्वी भगवान राम का राज्याभिषेक भरत कूप के जल से हुया था , देश की प्रवित्र नदियों के जल को लेकर भरत कूप में डाला गया था , चित्रकूट में हर जगह भजन कीर्तन हो रही ,मां मंदाकिनी की भागवत पूजा वा भोलेनाथ की आरती हो रही तो हनुमान मंदिर में हनुमान चालीस व सुंदरकांड का पाठ हो रहा , कामदगिरि प्रथम द्वार एवम कामद गिरी प्राचीन मुखारविंद मंदिर में अखंड रामायण चल रही, सद्गुरु सेवा संघ ट्रस्ट में भव्य सजावट की गई, कामदगिरि पर्वत से सिला पट्टिका बनाई गई है ,विजय राघो मंदिर में भी खास तैयारी है ।विजय राघो मंदिर निर्मोही अखाड़ा के अंतर्गत आता हैं जहां पूजा अर्चना चल रही

बुधवार को खुलेंगे बाजार, एक दिन पहले LOCKDOWN ख़त्म

READ MORE

IMG-20210124-WA0016
RED MOMENTS STUDIO

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here