FEATUREDसतना

नियत मे खोट ..शासन को चोट

आलेख, अशोक शुक्ला वरिष्ठ पत्रकार

कंवर राम टाकीज के सामने के बड़े भूखण्ड के स्वामित्व को लेकर जिला प्रशासन अब खुद को बचाने पर जुटा है अदालती लड़ाई मे बरती गई घोर लापरवाही को वह नामांतरण रद्द करके दुरूस्त करने की कोशिश कर रहा है फिलहाल करोडों रूपये मूल्य की इस भूमि का मालिकाना हक उन लोगो के पास है जिनके पक्ष मे कोर्ट का फैसला है यहां यह तर्क कोई मायने नही रखता है कि लोग अदम पैरवी अथवा एक पक्षीय निर्णय के आधार पर जीते है दूसरे पक्ष की कमजोरी अथवा लापरवाही का लाभ जिसे मिलना था उसे मिल गया अब नाक बचाने के लिये की जा रही कार्यवाही का कोई औचित्य समक्ष मे नही आता है हालांकि यह अकेला मामला नही है जब जिला प्रशासन की लापरवाही के कारण किसी दूसरे पक्ष को लाभ मिला हो । खूंथी की भी एक जमीन इसी तरह से जिला प्रशासन के हाथ से निकल ग ई थी संयुक्त कलेक्ट्रेट के समीप विधि महाविद्यालय की जमीन का मामला भी कुछ इसी तरह का है और वहाँ भी शासकीय अमले की गंभीरता सवालों के घेरे मे है ।

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003

माँ शारदा नगरी में कोरोना ब्लास्ट, अध्यक्ष भी हुए संक्रमित

READ MORE

बहरहाल मौजूदा कलेक्टर शासकीय भूमियों को सुरक्षित करने मे जुटे हुये है बाबूपुर और सोहावल मे हुये सरकारी जमीनो के फर्जीवाड़े को पकडकर उन्होने सराहनीय कार्य किया है अभी जिले के भीतर व्यंकटेश मंदिर . राम टेकरी और सोनौरा की सरकारी भूमि के घोटाले की परतें खुलना बाकि हैं यहां यह भी बतलाते चलें कि डी एम के मातहत रघुराजनगर के तहसीलदार रीवा रोड की एक सरकारी आराजी 250/2 का जिसका रकवा 0.5 डिसमिल है उस पर हुये अवैध कब्जे को मौखिक तौर पर जायज ठहरा चुके है कहा जाता है कि इस मामले मे जिले के एक वरिष्ठ पत्रकार कुमार कपूर ने शिकायत की थी मगर मनमाने तरीके से निर्णय लेने की आजादी के चलते रघुराजनगर के तहसीलदार मानवेंद्र सिंह सरकारी बाग की आराजी पर हुये कब्जे को जायज ठहराते हुये शिकायत कर्ता की शिकायत की ही हवा निकाल दी ….आगे हुजूर जाने

कोविड – 19 संक्रमण, जेल पहुँचे ये कलेक्टर

READ MORE
IMG-20210124-WA0016
RED MOMENTS STUDIO

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here