सतना

Murder : प्रेमी और उसके दोस्त के साथ मिलकर पति की हत्या

सतना | जिले के कोलगवाँ थाना इलाके में एक पत्नी ने अपने प्रेमी और उसके दोस्त के साथ मिल कर एक ऐसी साजिश रची जिसमे उसने अपने पति की ह्त्या करवाई और ह्त्या को हादसे में बदलने का नाकाम प्रयास किया लेकिन पुलिस ने चंद दिनों में पूरे घटनाक्रम से पर्दा उठा दिया और आरोपियों को उनके मुकाम तक पहुंचा दिया

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003

हुआ डमी टेस्ट

घटनास्थल पर जो मृतक का मोबाइल फोन मिला उसमें कोई भी डैमेज नहीं था जिससे कोलगवा पुलिस को शक हुआ कि यह मोबाइल ऊपर से गिरा नहीं है बल्कि किसी ने रखा है। ऊपर इमारत से गिरा शव 14 फीट की दूरी पर गिरा था, शव इतना दूर गिरना संभव नहीं है।इन दोनों ही सूरतो में एफएसएल अधिकारी एवं कोलगवां पुलिस को संदेह हुआ।जिसकी पुष्टि करने हेतु पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में डमी परीक्षण किया गया। परीक्षण से यह पता हुआ कि कोई व्यक्ति ऊपर इमारत से गिरता है या कोई उसे धक्का देता है अथवा वह व्यक्ति आत्महत्या के लिए कुदेगा भी तो 6-7 फिट से आगे नहीं जा पाएगा।इससे यह पुष्टि होती है कि व्यक्ति की की हत्या नीचे हुई थी मृतक के हाइट एवं वेट का एक डमी तैयार किया गया फिर उसे तीन बार ऊपर से नीचे गिरा कर टेस्ट किया गया कि यदि कोई व्यक्ति स्वाभाविक रूप से नीचे गिरेगा तो कितना दूर जाएगा,कोई धक्का देगा तो कितना दूर तक जाएगा।इन्हीं चीजों का परीक्षण किया गया,जिसमें यह पाया गया कि जिस स्थान पर डेड बॉडी मिली थी उसकी आधी दूरी पर भी कोई व्यक्ति नहीं पहुंचता है यदि उसे ऊपर इमारत से धक्का दिया जाए तो। इससे यह सिद्ध हुआ कि ऊपर से व्यक्ति को धक्का देने के बाद नीचे भी उसके साथ हाथापाई हुई और उसकी पत्थर से हत्या कर दी गई।

 हुआ डमी टेस्टये था घटनाक्रम

विगत दिनों दिनांक 31-01 मई की दरमियानी रात्रि में थाना कोलगवां अंतर्गत घटित हुई पटवारी संदीप सिंह पिता छोटेलाल सिंह 32 वर्ष की संदेहास्पद रूप से छत से गिरने से मौत हो गई थी।पटवारी संदीप सिंह,कैलाश गुप्ता के किराये के मकान में रहते थे,जो सगौनी में पटवारी के पद पर पदस्थ थे।जिसकी मृत्यु दिनाँक 01/06/20 की रात्रि छत से गिरने के कारण हुई थी,सूचना प्राप्त होने पर थाना प्रभारी कोलगवां द्वारा तत्काल घटना स्थल पहुचकर फॉरेंसिक टीम एवं डॉग स्क्वाड को सूचित किया गया जिनके द्वारा घटना स्थल का बारीकी से निरीक्षण करते हुए घटना स्थल से आवश्यक साक्ष्य को जप्त किया गया।मृतक शासकीय कर्मचारी होने एवं मृत्यु संदेहास्पद होने से थाना प्रभारी कोलगवां द्वारा तत्काल बरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया था एवं पुलिस अधीक्षक महोदय,अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एवं नगर पुलिस अधीक्षक द्वारा स्वयं आकर घटना स्थल का निरीक्षण करते हुए थाना प्रभारी कोलगवां को बारीकी से जाँच करने हेतु निर्देशित करते हुए सभी आवश्यक साक्ष्य एकत्रित करने के लिए निर्देशित किया गया,थाना प्रभारी कोलगवां द्वारा निर्देशों के बाद सक्रियता के साथ मुखबिर तंत्र को चारो तरफ फ़ैलाया गया एवं संदेहियों की पहचान करके उनके मोबा0न0 को सर्विलांस में डाला गया।जिससे मृतक की पत्नी (परिवर्तित नाम) रश्मी सिंह की गतिविधियां संदेहास्पद होने से उससे लगातार एवं बारीकी से पूछताछ किया गया जिसने जुर्म कबूल करते हुए सम्पूर्ण घटना का खुलासा करते हुए बताया कि मैं संतोषी माता मंदिर के पीछे अपने पति के साथ किराये के मकान में रहती हूं,मेरे पति पटवारी है तथा मेरी दो बेटियां है जो मेरी बोनांजा स्कूल में पढ़ती हैं, मेरे पति हमेशा मेरे साथ लड़ाई-झगड़ा एवं मारपीट करते रहते थे।बेटियों को स्कूल छोड़ने जाते जाते मेरी पहचान अनूप सिंह से हो गयी,जो मुझसे प्यार करने लगा,पति द्वारा दी जा रही प्रताड़ना को मैंने अनूप से बताया तो वह काफी गुस्से में होकर पति को जान से मारने एवं मेरे साथ हमेशा रहने की बात करने लगा।एक दिन मेरा प्रेमी अनूप मेरे घर आया उसी समय मेरे पति भी आ गए जिन्होंने मुझे औऱ अनूप को साथ मे देख लिया जिससे हम लोगो के साथ मारपीट एवं गाली गलौच करने लगे।इससे पहले भी मेरे एक्सीडेंट होने पर हॉस्पिटल में इन लोगो का झगड़ा हो गया था।अपने पति की हरकतों से मैं काफी परेशान थी।करीब 15 दिन पूर्व मै,अनूप औऱ उसका दोस्त सनी सिंह मिले एवं मेरे पति को जान से मारने की योजना बनाई एवं योजना अनुसार घटना के 2-3 दिन पहले से अनूप एवं सनी घर के नीचे आकर मौके की तलाश में रहते थे किंतु योजना अनुसार मौका न मिलने से फिर वापस चले जाते थे।घटना दिनाँक को रात्रि करीब 11:00 बजे मेरे पति खाना खाकर रोजाना की तरह मोबाइल लेकर छत में चले गए,रात्रि करीब 12 बजे से 12:30 के बीच मैंने दबे पाव नीचे जाकर मेन गेट का दरवाजा खोला एवं अनूप को घर के अंदर करते हुए अनूप के साथ दोनों लोग चुपके से छत पर गए जहाँ मेरा पति छत की बाउंड्री में बैठकर रोजाना की तरह मोबाइल चलाने में व्यस्त था अचानक हम दोनो लोगो को देखकर चौंक गया एवं भागने का प्रयास करने लगा उसी वक़्त अनूप ने उसे तेजी से पकड़ लिया झूमाझटकी हुई एवं मेरे पति को अनूप ने छत के नीचे फेंक दिया,हम दोनों लोग तेजी से नीचे आये अनूप को बाहर निकालकर मेन गेट में ताला बंद कर फिर छत में चली गयी,मैंने देखा कि मेरा पति जोर जोर से चिल्ला रहा था तभी अनूप पास पड़े पत्थर को उठाकर मेरे पति के सिर पर पटक दिया और अन्य चीजों से भी लगातार वार किया,जिससे उसकी मृत्यु हो गयी,मैंने शनि सिंह जो पास में कही छुपकर बैठा था,उसको दो- तीन मैसेज किये की अनूप यहाँ बैठा है इसे ले जाओ थोड़ी देर में शनि सिंह आकर अनूप को ले गया।मैंने छत में पड़े पति का मोबाइल एवं मेन गेट की चाबी किचेन में छुपाकर रख दी।करीब दो घंटे बाद मैं अपने पति को ढूढ़ते हुए मकान मालिक के साथ बाहर गयी एवं पति के लाश को देखकर पास बैठकर रोने लगी।

घटनाक्रम
घटनाक्रम

जाँच पर से हत्या का अपराध घटित होना पाए जाने से थाना में अप0क्र0 636/20 धारा 302,201,34,120-बी भा0द0वि0 का कायम करते हुए विवेचना में लिया गया तथा महिला आरोपिया को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया गया एवं आरोपी अनूप सिंह पिता राजबहादुर सिंह 21 वर्ष तथा शनी सिंह पिता गुलाब सिंह 20 वर्ष दोनों निवासी सगमनिहा की पता तलाश हेतु थाना प्रभारी कोलगवां द्वारा अलग-अलग टीम बनाकर हर संभावित स्थानों पर दविश दी गयी एवं आरोपी अनूप सिंह तथा शनी सिंह को भी आज गिरफ्तार कर लिया गया है जिन्हे कल माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जावेगा। घटना स्थल का रिक्रिएशन कराया गया है जिसमे आरोपियों द्वारा जिस प्रकार से घटना का होना एवं योजना बनाकर हत्या करना बताया गया है वही सही पाया गया। घटना में प्रयोग मोटरसाइकिल भी पुलिस द्वारा जप्त की गई है।महिला एवं आरोपियों का मोबाइल फोन जिसमें इन्होंने आपस में घटना की योजना के बारे में मैसेज किए हैं भी जप्त किया गया है।रिपोर्ट एवं नक्शा मौका fsl डॉक्टर द्वारा बना दी गई है,जिसे केस डायरी में सबूत के तौर पर संलग्न की जाएगी।

गिरफ्तार अभियुक्त

(1) (परिवर्तित नाम) रश्मी सिंह पति संदीप सिंह 29 वर्ष निवासी बिहरा कोटर हॉल संतोषी माता के पीछे कोलगवां।
(2) शनी सिंह पिता गुलाब सिंह 20 वर्ष निवासी सगमनिहा।
(3) अनूप सिंह पिता जयबहादुर सिंह 21 वर्ष निवासी सगमनिहा कोलगवां।

आरोपी प्रेमी और उसका दोस्त
आरोपी प्रेमी और उसका दोस्त

जांच टीम

निरी0 मोहित सक्सेना, फॉरेंसिक वैज्ञानिक डॉक्टर महेंद्र सिंह,उप0निरी0 शैलेंद्र पटेल, डी0आर0 शर्मा, सउनि सरला शर्मा,प्र0आर0 दीपेश पटेल (सायबर सेल),आर0 बृजेश सिंह,प्रवीण तिवारी, अजित सिंह, वाजिद खान, देवेंद्र सेन, पुष्पेंद्र बागरी, विपिन सोंधिया, म0आर0 871 प्रियंका चतुर्वेदी, सैनिक ओमप्रकाश दुवेदी।

IMG-20210124-WA0016
RED MOMENTS STUDIO

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here