FEATUREDसतना

गेहू के स्टॉक से मोटर पम्प लगा कर निकालना पड़ा पानी, हजारो टन अनाज हुआ बर्बाद

सतना : बे मौसम बरसात में सतना जिले में समर्थन मूल्य पर किसानों से खरीदा गया गेहूं बर्बाद हो रहा ,खरीदी क्रेंदो से गेहूं का परिवहन नही हो पाया ऐसे में तेज बारिश से गेहूं भीग गया ,सतना जिले में सरकारी आकड़ो के तहत 35 हजार मीट्रिन टन गेहूं बारिस की भेंट चढ़ा मगर जिम्मेदार विभाग का दावा है कि गेहूं का कोई नुकसान नही हुया जबकि वास्तविकता ये है कि खरीदी केंद्रों में तीन दिन बाद भी पानी भरा हुया है और मोटर पम्प लगाकर पानी आज भी निकाला जा रहा।

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003

ये नजारा है सतना जिले के खरीदी क्रेंदो का जहाँ मोटरपंप लगाकर पानी बाहर किया जा रहा ,दरअसल तेज बरसात की बजह से किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीदा गया गेहूं उचित रख रखाव और परिवहन न होने की बजह से भीग गया ,गेहूं की बोरिया पानी मे डूब तक गयी ,तीन दिन पूर्व हुई बारदात का अभी भी पानी खरीदी क्रेंदो में भरा हुया है और गेहूं सड़ कर दुर्गंध मार रहा मगर गेहूं खरीदी और भंडारण के लिए जिम्मेदार विभाग का दावा है कि बेमौषम बरसात से सिर्फ एक प्रतिशत ही गेहूं खराब होने की सम्भवना है ।तेज धूप में गेहूं सुखाकर भंडारित करा लिया जाएगा ,हालांकि विभाग भी मान रहा कि 35 हजार मीट्रिक टन गेहूं भीगा है ।

इस वर्ष सतना में गेहूं का रिकार्ड उत्पादन हुया ।जिले भर के किसानों से 110 खरीदी क्रेंदो में तीन लाख 19 हजार मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी हुई ।26 मई को खरीदी बंद हुई मगर आज तक 35 हजार मीट्रिक टन गेहूं का उठाव नही हुया ।खरीदी क्रेंद में खुले आसमान में रखा गेहूं भीग गया जबकि सरकार ने निर्देश दिए थे की खरीदी और भंडारण एक साथ होगा ,मगर परिवहन ठेकेदार की मनमानी और जिम्मेदार मार्कफेड और खाद्य विभाग की लापरबाही से गेंहू गरीबो की थाली तक पहुचने के पहले ही सड़ गया अब जिम्मेदार विभाग इसी गेहूं को गरीब का निवाला बनाने भेजेंगा।

 

IMG-20210124-WA0016
RED MOMENTS STUDIO

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here