सीधी-सिंगरौली

मिलबांट कर किया घोटाला, कागजो में कर दिया विकाश

सीधी | सीधी के बहरी ग्राम पंचायत में निर्माण कार्यों में हुए भ्रष्टाचार का मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है दरअसल करोड़ो रुपए की लागत से बनी दुकानों में अब भ्रष्टाचार की बू आने लगी है दबंग ठेकेदारों ने जहां 18 दुकान में शासकीय जमीन पर बना दी तो प्रशासन ने ठेकेदार पर एफ आई आर दर्ज कराने के आदेश दिए वहीं ठेकेदार ने पंचायत कर्मियों की लाखों के घोटाले की आवाज बुलंद कर सचिव पर जांच की मांग की है जहां जिला कलेक्टर ने जांच करने की बात कही है।

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003

सीधी के सिहावल जनपद पंचायत के तहत ग्राम पंचायत बहरी में पिछले 3 साल के दौरान विकास कार्यों के लिए आने वाले बचत से आपसी तालमेल बनाकर इस पंचायत में जनप्रतिनिधि और पंचायत कर्मियों ने घोटाले में अपनी अपनी भूमिका बराबर निभाई है,दरअसल ग्राम पंचायत बहरी के सड़क यात्री प्रतीक्षालय सब्जी मंडी बस स्टैंड नाली पी सी सी सड़क निर्माण के साथ ही बिल्डिंग निर्माण के नाम पर करोड़ों का बजट आश्रित जरूर किया गया पर आज भी बहरी बाजार के अंदरूनी रहने वाले लोगों के लिए एक बेहतर सड़क सपना बनी हुई है,बाजार के अधिकांश जगहों पर मुरूम बिछाने के साथ ही सड़क निर्माण कार्य पूरा मान लिया गया है इस पंचायत में किए गए घोटाले में अहम जिम्मेदारों ने दुकान निर्माण सहित अन्य निर्माण कार्यों में लाखों का घोटाला बताया गया है वहीं ठेकेदार ने सचिव पर दुकान में लाखों रुपए का घोटाला को लेकर शिकायत की बात कही वहीं सचिव ने कहा कि सारे आरोप निराधार हैं, ठेकेदार ने शासकीय जमीन पर दुकानें बना दी है जिसकी जांच हो कर एफ आई आर दर्ज कराने के आदेश दिए गए थे जिसकी वजह से सारा मामला अब तूल पकड़ता जा रहा है।।

वहीं जिला कलेक्टर रविन्द्र चौधरी भी खुद स्वीकार कर रहे हैं बहरी ग्राम पंचायत में हुए घोटाले की शिकायत इसके पहले भी आ चुकी है नायब तहसीलदार ने जांच कर कुछ कार्यवही भी की है,अन्य शिकायते भी है जाँच के लिये निष्पक्ष और अच्छे अधिकारी से जाँच कराई जाएगी, संबंधित जो भी दोषी पाए जाते हैं उनके विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाएगी हाल बहरी पंचायत निर्माण कार्य में भ्रष्टाचार की शिकायत पर जिला कलेक्टर ने टीम नियुक्त कर अच्छे अधिकारी से जांच कर दोषी पाए जाने पर कार्यवाही की बात जरूर कही है लेकिन अब देखना यह होगा कि जांच में क्या निकल कर सामने आता है और क्या कुछ कार्यवाही हो पाती है।

एक मोटर पम्प का बिल 80 हजार अरब रुपया, कैसे बिल भरे किसान

IMG-20210124-WA0016
RED MOMENTS STUDIO

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here