रीवासतनासीधी-सिंगरौली

विंध्य के चिकित्सक दंपत्ति उज्जैन में बने कोरोना योद्धा

सिंगरौली 8 मई। चितरंगी के लाल व रतनपुरवा निवासी डॉ.उपेन्द्र पाण्डेय व उनकी धर्मपत्नी डॉ.दर्शिता पाण्डेय उज्जैन के आर्डी गार्डी मेडिकल कॉलेज में कोविड-19 को हराने के लिए दिन-रात मरीजों का ईलाज कर अपनी महती भूमिका अदा कर रहे हैं। ऐसे कर्मवीरों पर चितरंगी व सिंगरौली जिले के जनता को गर्व है। जो दूसरे जिले में अपनी सेवाएं देते हुए इस कोरोना महामारी की लड़ाई में दिन-रात संघर्ष कर अपने घर को भी भूलकर मरीजों की सेवा में लगे हुए हैं।
बताते चलें कि म.प्र.का उज्जैन जिला रेड जोन में है। उज्जैन में  एक सैकड़ा से ऊपर कोरोना के संक्रमित मरीज मिले हैं। उज्जैन में कोरोना को लेकर भयावह स्थिति निर्मित है। इस कोरोना की लड़ाई में  डॉक्टर्स अपनी अहम भूमिका अदा करते हुए कोरोना को मिटाने के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं। ऐसा ही सिंगरौली जिले के चितरंगी के रतनपुरवा गांव निवासी डॉ.उपेन्द्र पाण्डेय एमबीबीएस एमएस पिता संकठा प्रसाद पाण्डेय  और उनकी पत्नी डॉ.दर्शिता पाण्डेय एमबीबीएस, एमडी इन दोनों ने उज्जैन के आरडी गार्डी मेडिकल कॉलेज में कार्यरत हैं और कोविड-19 में ड्यूटी कर अपना योगदान दे रहे हैं। जानकारी देते हुए बताया गया कि ये दोनों डॉक्टर्स दम्पत्ति उज्जैन में कोरोना की लड़ाई में अपना अहम योगदान देते हुए कोरोना को भगाने में जुटे हुए हैं। मरीजों की सेवा करते-करते अपने घर को जाना भी भूल चुके हैं। उनकी बस एक चाहत है कि हम किस तरह कोरोना के मरीजों को समुचित ईलाज देकर उन्हें ठीक कर इस कोरोना के जंग को जीत लें। ऐसे योद्धा व चितरंगी के सपूत पर समूचा जिला गर्व कर रहा है और यह हमारे गौरव की बात है कि सिंगरौली के चितरंगी का रहने वाला लाल अपने जिले के साथ-साथ चितरंगी व रतनपुरवा गांव का नाम रोशन कर रहा है।

यह भी पढ़े :

Dr Anuj Pratap Singh
JANTA
IMG-20210305-WA0003

कोरोना संदिग्ध का अंतिम सस्कार

No Slide Found In Slider.

विज्ञापन

SATNANEWS.NET पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें

Comment here